Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2023 · 1 min read

पीर पराई

पीर पराई

पर सन्ताप न राजा जाने,
न दुख समझे वैश्या ।
यमराजा भी कभी न जाने,
किसी का दुख हो कैसा ।

इन्हें भी कुछ न लेना देना,
अग्नि, चोर, भिखमंगा ।
कर उगाहक, छोटा बच्चा,
पर दुख में भी चंगा ।

चाणक्य बाबा जाँच परखकर,
आठों की क्या बात बतायी।
कोई चाहे कितना कर ले,
ये क्या जाने पीर पराई।

Language: Hindi
452 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
*वानर-सेना (बाल कविता)*
*वानर-सेना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बदनाम गली थी
बदनाम गली थी
Anil chobisa
Fight
Fight
AJAY AMITABH SUMAN
मां - हरवंश हृदय
मां - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
"सम्मान व संस्कार व्यक्ति की मृत्यु के बाद भी अस्तित्व में र
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राकेश चौरसिया
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
"" *माँ की ममता* ""
सुनीलानंद महंत
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
Ravi Betulwala
पंचवर्षीय योजनाएँ
पंचवर्षीय योजनाएँ
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति से हमें जो भी मिला है हमनें पूजा है
प्रकृति से हमें जो भी मिला है हमनें पूजा है
Sonam Puneet Dubey
“It is not for nothing that our age cries out for the redeem
“It is not for nothing that our age cries out for the redeem
पूर्वार्थ
कहानी हर दिल की
कहानी हर दिल की
Surinder blackpen
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
मुख  से  निकली पहली भाषा हिन्दी है।
मुख से निकली पहली भाषा हिन्दी है।
सत्य कुमार प्रेमी
नाक पर दोहे
नाक पर दोहे
Subhash Singhai
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
नूरफातिमा खातून नूरी
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
Jyoti Khari
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
"लोगों की सोच"
Yogendra Chaturwedi
हास्य गीत
हास्य गीत
*प्रणय प्रभात*
ज्ञात हो
ज्ञात हो
Dr fauzia Naseem shad
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी बिलकुल चिड़िया घर जैसी हो गई है।
जिंदगी बिलकुल चिड़िया घर जैसी हो गई है।
शेखर सिंह
3347.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3347.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...