Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2023 · 1 min read

पीने -पिलाने की आदत तो डालो

पीने -पिलाने की आदत तो डालो
मिलेंगे यूँही खामखा दोनों अक्सर
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"नींद से जागो"
Dr. Kishan tandon kranti
चांद
चांद
नेताम आर सी
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
Dr. Mulla Adam Ali
■ उनके लिए...
■ उनके लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
ये कैसा घर है. . . .
ये कैसा घर है. . . .
sushil sarna
शेयर
शेयर
rekha mohan
वो किताब अब भी जिन्दा है।
वो किताब अब भी जिन्दा है।
दुर्गा प्रसाद नाग
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
Sanjay ' शून्य'
*अफसर की बाधा दूर हो गई (लघु कथा)*
*अफसर की बाधा दूर हो गई (लघु कथा)*
Ravi Prakash
अपनी हीं क़ैद में हूँ
अपनी हीं क़ैद में हूँ
Shweta Soni
2577.पूर्णिका
2577.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Colours of life!
Colours of life!
Sridevi Sridhar
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
Dr fauzia Naseem shad
खरा इंसान
खरा इंसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रिवायत
रिवायत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Meri najar se khud ko
Meri najar se khud ko
Sakshi Tripathi
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल "हृद
Radhakishan R. Mundhra
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
* जिसने किए प्रयास *
* जिसने किए प्रयास *
surenderpal vaidya
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
उन्होंने कहा बात न किया कीजिए मुझसे
उन्होंने कहा बात न किया कीजिए मुझसे
विकास शुक्ल
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
पूर्वार्थ
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
Harminder Kaur
इस पार मैं उस पार तूँ
इस पार मैं उस पार तूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...