Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

पिता पर एक गजल लिखने का प्रयास

मां के है श्रृंगार पिता।
बच्चो के संसार पिता।

मां आंगन की तुलसी है।
द्वार के वंदनवार पिता।।

घर की नीव सरीखी मां।
घर की छत दीवार पिता।।

मां कर्तव्य बताती है।
देते है अधिकार पिता।।

मां सपने बुनती रहती है।
करते है साकार पिता।।

बच्चो की पालक हैं मां।
घर के पालनहार पिता।।

बच्चो की हर बाधा को।
लड़ने को है तैयार पिता।।

आज विदा करके बेटी।
रोए पहली बार पिता।।

बच्चो की खुशियां पाए तो।
कर दे जान निसार पिता।।

घर को जोड़े रखने में।
टूटे कितनी बार पिता।।

घर का भार वे उठाते थे।
अब है घर के भार पिता।।

बंटवारे ने अब बांट दिए।
बूढ़ी मां है लाचार पिता।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
6 Likes · 13 Comments · 822 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
"इन्तजार"
Dr. Kishan tandon kranti
2346.पूर्णिका
2346.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सब अपने दुख में दुखी, किसे सुनाएँ हाल।
सब अपने दुख में दुखी, किसे सुनाएँ हाल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
संगीत................... जीवन है
संगीत................... जीवन है
Neeraj Agarwal
"मेरी बेटी है नंदिनी"
Ekta chitrangini
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
SHAMA PARVEEN
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
कार्तिक नितिन शर्मा
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेले
मेले
Punam Pande
स्वयंसिद्धा
स्वयंसिद्धा
ऋचा पाठक पंत
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
नज़्म - झरोखे से आवाज
नज़्म - झरोखे से आवाज
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
Manisha Manjari
चार लोग क्या कहेंगे?
चार लोग क्या कहेंगे?
करन ''केसरा''
गुलाबी शहतूत से होंठ
गुलाबी शहतूत से होंठ
हिमांशु Kulshrestha
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
gurudeenverma198
*दादाजी (बाल कविता)*
*दादाजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
Dr MusafiR BaithA
Loading...