Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

पिताश्री

पितृ दिवस पर श्रद्धा सुमन

पिता है पीपल की घनी छाव!
जिनकी गोद ही था मेरा गाव!!
अब न वो पीपल की घनी छाव!
नाही ब्रह्म मुहूर्त उठने की काव !!
फिर भी संस्कार,वो जो दे गए ,
अगली पीढी को देने का है दाव!!
अटूट निर्बाध गति चली परम्परा,
रह गई है भग्नावशेष की छाव !!

उठा है सर से जबसे उनका साया!
मैने स्वयं को बहुत बृद्ध सा ही पाया!!
वो जब तलक घर पर मौजूद थे,
अब है सर पर सुफेद बालो की छाया!!
‘फादर्स डे’ क्या,रोज़ वंदन करता हू,
इसीलिए नही किसी खौफ का साया!!

बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202 नीरव निकुज ,सिकंदरा,आगरा-282007
मो:9412443093

Language: Hindi
Tag: गीत
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
विधा - गीत
विधा - गीत
Harminder Kaur
कैसे देख पाओगे
कैसे देख पाओगे
ओंकार मिश्र
उसने मुझे लौट कर आने को कहा था,
उसने मुझे लौट कर आने को कहा था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
Keshav kishor Kumar
दुनिया की गाथा
दुनिया की गाथा
Anamika Tiwari 'annpurna '
"खाली हाथ"
इंजी. संजय श्रीवास्तव
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2
2
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सावन मास निराला
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ भूमिका (08 नवम्बर की)
■ भूमिका (08 नवम्बर की)
*प्रणय प्रभात*
मैं प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
मैं प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
Anil chobisa
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
पूर्वार्थ
"खुद के खिलाफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
3428⚘ *पूर्णिका* ⚘
3428⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
STABILITY
STABILITY
SURYA PRAKASH SHARMA
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
जनहित (लघुकथा)
जनहित (लघुकथा)
Ravi Prakash
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Sampada
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
* प्रभु राम के *
* प्रभु राम के *
surenderpal vaidya
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
मुझे आदिवासी होने पर गर्व है
मुझे आदिवासी होने पर गर्व है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
DrLakshman Jha Parimal
रोज हमको सताना गलत बात है
रोज हमको सताना गलत बात है
कृष्णकांत गुर्जर
टूटे बहुत है हम
टूटे बहुत है हम
The_dk_poetry
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"झूठे लोग "
Yogendra Chaturwedi
Loading...