Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2023 · 1 min read

पितर पाख

पितर पाख
देवत हावव तुमन सब झन ला नेवता,
मोर घर मा आहू हमर पितर देवता।
नम्मी श्राद्ध के दिन मा आही मोर महतारी,
ओकर सुरता मा आंसू मोर बोहाथे संगवारी।
मोला छोड़के जेन दिन मोर बाबू हा गे रहीस,
तेन दिन ले अपन आप मा बेसहारा कस लगे लगिस।
आगे हावय पितर पाख आही मोर घर मा दाई ददा,
बरा सोहारी चुरोके खवाबो फेर आखरी मा करबो बिदा।
मुंदरहे ले उठके नहा खोर के पानी देबर जाथन,
घर मा सुग्घर चौक पुरा के हुम जग देके सुमरथन।
पितर देवता हा भोग लगाए बर कऊआ बनके आथे,
रोटी पीठा अऊ जम्मो जिनिस ला छानी मा जेवाथे।
लगती नवराती पितर पाख हा आखरी कोती आथे,
हुम जग अऊ फूल पान बिसर्जन करके पितर बिदा करथे।।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
Sarfaraz Ahmed Aasee
अपने होने की
अपने होने की
Dr fauzia Naseem shad
भूमि भव्य यह भारत है!
भूमि भव्य यह भारत है!
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लंबा सफ़र
लंबा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*दिल कहता है*
*दिल कहता है*
Kavita Chouhan
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
अहं
अहं
Shyam Sundar Subramanian
सुप्रभात गीत
सुप्रभात गीत
Ravi Ghayal
🌺प्रेम कौतुक-194🌺
🌺प्रेम कौतुक-194🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इंकलाब की मशाल
इंकलाब की मशाल
Shekhar Chandra Mitra
सुबह आंख लग गई
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
शस्त्र संधान
शस्त्र संधान
Ravi Shukla
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
Rj Anand Prajapati
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
"कलम की अभिलाषा"
Yogendra Chaturwedi
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
Trishika S Dhara
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
हर शायर जानता है
हर शायर जानता है
Nanki Patre
......?
......?
शेखर सिंह
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
2633.पूर्णिका
2633.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रिश्ते जोड़ कर रखना (गीतिका)
रिश्ते जोड़ कर रखना (गीतिका)
Ravi Prakash
विकल्प
विकल्प
Sanjay ' शून्य'
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
Loading...