Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

पानी में हीं चाँद बुला

पानी में हीं चाँद बुला
बातें हीं कर जन्नत की

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
आईना देख
आईना देख
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
Dr MusafiR BaithA
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
कविता
कविता
Rambali Mishra
हमारा फ़र्ज
हमारा फ़र्ज
Rajni kapoor
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
समय के झूले पर
समय के झूले पर
पूर्वार्थ
आ जाते हैं जब कभी, उमड़ घुमड़ घन श्याम।
आ जाते हैं जब कभी, उमड़ घुमड़ घन श्याम।
surenderpal vaidya
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
Kumar lalit
विदाई
विदाई
Aman Sinha
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
आखिरी वक्त में
आखिरी वक्त में
Harminder Kaur
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
Kirti Aphale
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
कवि रमेशराज
*पिता (सात दोहे )*
*पिता (सात दोहे )*
Ravi Prakash
आता है संसार में,
आता है संसार में,
sushil sarna
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
A setback is,
A setback is,
Dhriti Mishra
चुल्लू भर पानी में
चुल्लू भर पानी में
Satish Srijan
मकर संक्रांति -
मकर संक्रांति -
Raju Gajbhiye
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
सारे यशस्वी, तपस्वी,
सारे यशस्वी, तपस्वी,
*Author प्रणय प्रभात*
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
Neelam Sharma
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
23/89.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/89.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
देश का दुर्भाग्य
देश का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
DrLakshman Jha Parimal
Loading...