Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

पागल।। गीत

आजा पागल! हम तुम पागल, मिलकर पागल-पागल खेलें
जब जी चाहे, जो जी चाहे, जैसे चाहे, वैसे कर लें।

कुछ भी अपना/गैर न समझें,
दुनियावी कानून भुला दें
जिस पल जो अपना लग जाए,
उस पल उससे प्यार जता दें

जो अपने जैसा लग जाए, उस को ही बाहों में भर लें।
आजा पागल! हम तुम पागल, मिलकर पागल पागल खेंलें

बिन सोचे समझे ही कह दें,
जब जिससे जो भी हो कहना।
कहना-सुनना भाड़ में जाए,
बस अपनी धुन में हो रहना।

जब जी चाहे हँसना, हँस लें, जब जी चाहे रोना, रो लें
आजा पागल! हम तुम पागल, मिलकर पागल-पागल खेंलें।

ये हमको मालूम हि न हो,
खर्चा और कमाना क्या है
भूल जाए हम किसी रोज ये
क्या घर बार, ठिकाना क्या है

नाम वाम कुछ याद न रक्खें, जहाँ साँझ हो, वहीं बसर लें।
आजा पागल! हम तुम पागल, मिलकर पागल-पागल खेंलें

इन सब में इस तरह मगन हों,
मरना भी है याद न आए
स्वर्ग-नर्क या धर्म-कर्म का
किसी तरह का ज्ञान न आए।

छूट रहा क्या भूलभाल सब, दुनिया से चुप-चाप निकल लें।
आजा पागल! हम तुम पागल, मिलकर पागल पागल खेंलें।

© शिवा अवस्थी

4 Likes · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
विकट संयोग
विकट संयोग
Dr.Priya Soni Khare
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
Anil chobisa
"प्रत्युत्पन्न मति"
*प्रणय प्रभात*
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
जिम्मेदारियाॅं
जिम्मेदारियाॅं
Paras Nath Jha
वैसे तो चाय पीने का मुझे कोई शौक नहीं
वैसे तो चाय पीने का मुझे कोई शौक नहीं
Sonam Puneet Dubey
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
ना मसले अदा के होते हैं
ना मसले अदा के होते हैं
Phool gufran
23/86.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/86.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हार नहीं, हौसले की जीत
हार नहीं, हौसले की जीत
पूर्वार्थ
4) धन्य है सफर
4) धन्य है सफर
पूनम झा 'प्रथमा'
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
"खुश रहिए"
Dr. Kishan tandon kranti
ଅନୁଶାସନ
ଅନୁଶାସନ
Bidyadhar Mantry
"साम","दाम","दंड" व् “भेद" की व्यथा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
जल संरक्षण बहुमूल्य
जल संरक्षण बहुमूल्य
Buddha Prakash
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
प्रेम दिवानों  ❤️
प्रेम दिवानों ❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
सुना था,
सुना था,
हिमांशु Kulshrestha
हम बेखबर थे मुखालिफ फोज से,
हम बेखबर थे मुखालिफ फोज से,
Umender kumar
**तुझे ख़ुशी..मुझे गम **
**तुझे ख़ुशी..मुझे गम **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
हिंदी की दुर्दशा
हिंदी की दुर्दशा
Madhavi Srivastava
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...