Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2022 · 1 min read

पाँव में छाले पड़े हैं….

पाँव में छाले पड़े हैं …

वेदना में जल रही हूँ, आँसुओं में गल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।

ओ नियंता दर्द मेरा, देख तू भी इक बारगी।
फर्क मुझ पर क्या पड़े अब, रोशनी हो या तीरगी।
हाथ में गम की लकीरें, साथ तम के पल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।

कौन जाने कब मुझे हो, इस जहां को छोड़ जाना।
कौन जाने किस सुबह फिर, हो यहाँ पर लौट आना।
दिवस का अवसान होता, रात में अब ढल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।

शिकवा न कोई मैं करूँ, रुचे जो जिनको वो करें।
मार्ग फिर भी रोक लेतीं, हा हर कदम पर ठोकरें।
आस मंजिल की लगाए, नित स्वयं को छल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।

देता न कोई साथ है, आज समझ ये पायी हूँ ।
पास कुछ न और बाकी, भाव-सुमन बस लायी हूँ।
कल मुझे जो मीत कहते, आज उनको खल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।

खुशी के रेले मिलेंगे, ख्वाब देखे थे नज़र ने।
मर्म जीवन का सुझाया, नत खड़े गुमसुम शज़र ने।
लुट गया रोशन जहां अब, हाथ खाली मल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।
पर निरंतर चल रही हूँ।

© डॉ0 सीमा अग्रवाल
जिगर कॉलोनी, मुरादाबाद
“प्रभांजलि” से

Language: Hindi
Tag: गीत
10 Likes · 6 Comments · 360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
योग क्या है.?
योग क्या है.?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गम और खुशी।
गम और खुशी।
Taj Mohammad
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
बहुत हुआ
बहुत हुआ
Mahender Singh
असली धन समझो यही, तन-मन सेहतवान(कुंडलिया)
असली धन समझो यही, तन-मन सेहतवान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
Ranjeet kumar patre
आप  की  मुख्तसिर  सी  मुहब्बत
आप की मुख्तसिर सी मुहब्बत
shabina. Naaz
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
ओ परबत  के मूल निवासी
ओ परबत के मूल निवासी
AJAY AMITABH SUMAN
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐अज्ञात के प्रति-28💐
💐अज्ञात के प्रति-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
जिंदगी जीना है तो खुशी से जीयों और जीभर के जीयों क्योंकि एक
जिंदगी जीना है तो खुशी से जीयों और जीभर के जीयों क्योंकि एक
जय लगन कुमार हैप्पी
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
चंदा तुम मेरे घर आना
चंदा तुम मेरे घर आना
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
उर्वशी कविता से...
उर्वशी कविता से...
Satish Srijan
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
Shweta Soni
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
कवि रमेशराज
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
सजाया जायेगा तुझे
सजाया जायेगा तुझे
Vishal babu (vishu)
मिट्टी के परिधान सब,
मिट्टी के परिधान सब,
sushil sarna
296क़.*पूर्णिका*
296क़.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रही सोच जिसकी
रही सोच जिसकी
Dr fauzia Naseem shad
शहनाई की सिसकियां
शहनाई की सिसकियां
Shekhar Chandra Mitra
नहीं चाहता मैं यह
नहीं चाहता मैं यह
gurudeenverma198
किसी को नीचा दिखाना , किसी पर हावी होना ,  किसी को नुकसान पह
किसी को नीचा दिखाना , किसी पर हावी होना , किसी को नुकसान पह
Seema Verma
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
Amit Pathak
मेरे नन्हें-नन्हें पग है,
मेरे नन्हें-नन्हें पग है,
Buddha Prakash
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
"सूदखोरी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...