Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2022 · 1 min read

पाँव में छाले पड़े हैं….

पाँव में छाले पड़े हैं …

वेदना में जल रही हूँ, आँसुओं में गल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।

ओ नियंता दर्द मेरा, देख तू भी इक बारगी।
फर्क मुझ पर क्या पड़े अब, रोशनी हो या तीरगी।
हाथ में गम की लकीरें, साथ तम के पल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।

कौन जाने कब मुझे हो, इस जहां को छोड़ जाना।
कौन जाने किस सुबह फिर, हो यहाँ पर लौट आना।
दिवस का अवसान होता, रात में अब ढल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।

शिकवा न कोई मैं करूँ, रुचे जो जिनको वो करें।
मार्ग फिर भी रोक लेतीं, हा हर कदम पर ठोकरें।
आस मंजिल की लगाए, नित स्वयं को छल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।

देता न कोई साथ है, आज समझ ये पायी हूँ ।
पास कुछ न और बाकी, भाव-सुमन बस लायी हूँ।
कल मुझे जो मीत कहते, आज उनको खल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।

खुशी के रेले मिलेंगे, ख्वाब देखे थे नज़र ने।
मर्म जीवन का सुझाया, नत खड़े गुमसुम शज़र ने।
लुट गया रोशन जहां अब, हाथ खाली मल रही हूँ।
पाँव में छाले पड़े हैं, पर निरंतर चल रही हूँ।
पर निरंतर चल रही हूँ।

© डॉ0 सीमा अग्रवाल
जिगर कॉलोनी, मुरादाबाद
“प्रभांजलि” से

Language: Hindi
10 Likes · 6 Comments · 222 Views
You may also like:
करनी होगी जंग ( गीत)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
छोटी-छोटी बातों में लड़ते हो तुम।
Buddha Prakash
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
यह यादें
Anamika Singh
प्रेम का दीप जलाया जाए
अनूप अंबर
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तितली
लक्ष्मी सिंह
वक़्त का भी कहां
Dr fauzia Naseem shad
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'स्मृतियों की ओट से'
Rashmi Sanjay
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
ऐ काश, ऐसा हो।
Taj Mohammad
✍️वक़्त और रास्ते✍️
'अशांत' शेखर
इश्क़ से इंकलाब तक
Shekhar Chandra Mitra
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
ज़मीं पे रहे या फलक पे उड़े हम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संघर्ष पथ
Aditya Prakash
चिरनिन्द्रा
विनोद सिल्ला
छंद:-अनंगशेखर(वर्णिक)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पाब्लो नेरुदा
Pakhi Jain
तुम भी बढ़ो हम भी बड़े
कवि दीपक बवेजा
किसान
Shriyansh Gupta
“कलम”
Gaurav Sharma
ख्वाब हो गए वो दिन
shabina. Naaz
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी पत्रकारिता के साठ वर्ष (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
" छुपी प्रतिभा "
DrLakshman Jha Parimal
Loading...