Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,

************************************
**पहाड़ के गांव**एक गांव से पलायन पर मेरे भाव —
पहाड़ के सुरम्य वादियों में
बसे पुरखों के गांव।
जहां झरने निरंतर
झरते हुए
जीवन धारा में
झंकृत निनाद करते हुए
स्मरण दिलाते हैं
यही है हमारे पुरखों के गांव।
अमिय बनकर वायु जहां
निरंतर प्राण वायु बनकर
हमें जीवंत रखती हैं।
अब वही वीरान पड़े आशियाना
खण्डहर होने की प्रतीक्षा में हैं।
भौतिक सुखों की लालसा?
रोजी रोटी की खोज?
अपने कुनबे की आधुनिक
परवरिश?
क्या ये सवाल नहीं हैं?
उजड़ रहे पुरखों के गांव??
विस्मय!
घोर विस्मय!!
कोई आ रहा पहाड़ से
मैदानों की ओर
कोई जा रहा पहाड़ों की ओर!!
आत्मिक सुख की खोज में
कब तक
मृग मरीचिका के भंवर जाल में
खोते रहेंगे??
चिंतित है, विस्मित हैं
पुरखों के गांव!!
**© मोहन पाण्डेय ‘भ्रमर ‘
दिनांक ५अप्रैल २०२४

Language: Hindi
73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
कवि रमेशराज
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
Keshav kishor Kumar
Beginning of the end
Beginning of the end
Bidyadhar Mantry
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
Ravi Prakash
"जब आपका कोई सपना होता है, तो
Manoj Kushwaha PS
इंसानियत की लाश
इंसानियत की लाश
SURYA PRAKASH SHARMA
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
छंद मुक्त कविता : जी करता है
छंद मुक्त कविता : जी करता है
Sushila joshi
"गहराई में बसी है"
Dr. Kishan tandon kranti
*बाल गीत (पागल हाथी )*
*बाल गीत (पागल हाथी )*
Rituraj shivem verma
कपूत।
कपूत।
Acharya Rama Nand Mandal
पत्नी से अधिक पुरुष के चरित्र का ज्ञान
पत्नी से अधिक पुरुष के चरित्र का ज्ञान
शेखर सिंह
लेकर सांस उधार
लेकर सांस उधार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दासी
दासी
Bodhisatva kastooriya
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
2392.पूर्णिका
2392.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
gurudeenverma198
आईने में अगर
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*बस एक बार*
*बस एक बार*
Shashi kala vyas
यह जीवन अनमोल रे
यह जीवन अनमोल रे
विजय कुमार अग्रवाल
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लहजा समझ आ जाता है
लहजा समझ आ जाता है
पूर्वार्थ
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
AMRESH KUMAR VERMA
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
मुस्कुराना जरूरी है
मुस्कुराना जरूरी है
Mamta Rani
Loading...