Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2023 · 1 min read

पहले एक बात कही जाती थी

पहले एक बात कही जाती थी
सब सुनते थे
अब बातें इतनी होती है
सुनने वाला कोई नहीं ।@लक्ष्मण

501 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोयल (बाल कविता)
कोयल (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
पुलवामा शहीद दिवस
पुलवामा शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
धोखे का दर्द
धोखे का दर्द
Sanjay ' शून्य'
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
Neeraj Agarwal
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
Gouri tiwari
चुनावी चोचला
चुनावी चोचला
Shekhar Chandra Mitra
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
🎂जन्मदिन की अनंत शुभकामनाये🎂
🎂जन्मदिन की अनंत शुभकामनाये🎂
Dr Manju Saini
"प्रेरणा के स्रोत"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जागो जागो तुम सरकार
जागो जागो तुम सरकार
gurudeenverma198
Kbhi Karib aake to dekho
Kbhi Karib aake to dekho
Sakshi Tripathi
चाय जैसा तलब हैं मेरा ,
चाय जैसा तलब हैं मेरा ,
Rohit yadav
हमारी तुम्हारी मुलाकात
हमारी तुम्हारी मुलाकात
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
संघर्ष
संघर्ष
विजय कुमार अग्रवाल
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
कवि रमेशराज
विनती सुन लो हे ! राधे
विनती सुन लो हे ! राधे
Pooja Singh
तुम्हारी आँखें...।
तुम्हारी आँखें...।
Awadhesh Kumar Singh
प्रेम
प्रेम
Rashmi Sanjay
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
राजनीति अब धुत्त पड़ी है (नवगीत)
राजनीति अब धुत्त पड़ी है (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
चाहे मिल जाये अब्र तक।
चाहे मिल जाये अब्र तक।
Satish Srijan
*कोई मंत्री बन गया, छिना किसी से ताज (कुंडलिया)*
*कोई मंत्री बन गया, छिना किसी से ताज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2632.पूर्णिका
2632.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...