Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

परेशानियों से न घबराना

परेशानियों से न घबराना

यही है ज़िंदगी का सार
कभी जीत तो कभी हार,
ऐसे ज़िंदगी से न हो नाराज़
यह जीवन नहीं मिलता बार बार,
मिल जाए कभी यदि ज़िंदगी में हार,
तो इससे भी सबक मिलता है यार,
पहचानो अपनी कमजोरी को
बन लो उसे अपनी ढ़ाल,
ऐसे ही परेशानियों से न घबराना,
यही है ज़िंदगी का सार,
कभी है जीत तो कभी है हार
मंजिल कर रही है आपका इंतज़ार,
चल उठ, खड़ा हो ,हो जा रनभूमि के लिए तैयार,
अर बुलंद हौंसले, भर ऊँची उड़ान,
हार से कभी न मानना अपनी ज़िंदगी की हार
यही है ज़िंदगी का सार।

111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
ग़ज़ल -1222 1222 122 मुफाईलुन मुफाईलुन फऊलुन
ग़ज़ल -1222 1222 122 मुफाईलुन मुफाईलुन फऊलुन
Neelam Sharma
जो रोज समय पर उगता है
जो रोज समय पर उगता है
Shweta Soni
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
समय भी दो थोड़ा
समय भी दो थोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
अमरत्व
अमरत्व
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
यूं ना कर बर्बाद पानी को
यूं ना कर बर्बाद पानी को
Ranjeet kumar patre
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यार की चंद पन्नों की किताब में
प्यार की चंद पन्नों की किताब में
Mangilal 713
श्री रामलला
श्री रामलला
Tarun Singh Pawar
मंज़िलों से गुमराह भी कर देते हैं कुछ लोग.!
मंज़िलों से गुमराह भी कर देते हैं कुछ लोग.!
शेखर सिंह
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
Amit Pathak
शब्द
शब्द
Sûrëkhâ
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जब घर से दूर गया था,
जब घर से दूर गया था,
भवेश
■ सत्यानासी कहीं का।
■ सत्यानासी कहीं का।
*Author प्रणय प्रभात*
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
gurudeenverma198
सच हमारे जीवन के नक्षत्र होते हैं।
सच हमारे जीवन के नक्षत्र होते हैं।
Neeraj Agarwal
दान किसे
दान किसे
Sanjay ' शून्य'
नदिया साफ करेंगे (बाल कविता)
नदिया साफ करेंगे (बाल कविता)
Ravi Prakash
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Bodhisatva kastooriya
"बात सौ टके की"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
Dhriti Mishra
मुदा एहि
मुदा एहि "डिजिटल मित्रक सैन्य संगठन" मे दीप ल क' ताकब तथापि
DrLakshman Jha Parimal
Loading...