Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2023 · 1 min read

परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल ! दोनों ही स्थितियों में

परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल ! दोनों ही स्थितियों में व्यक्ति की क्षमता बढ़ाने में मददगार होती है । समस्याओं की सार्थकता को समझते हुए उसे सधैर्य सुलझाना ही पुरूषार्थ है । दु:ख के अनुभव से आनन्द के एहसास में वृद्धि होती है । जब तक व्यक्ति का प्रयास पूरे मनोयोग से जीवित है तभी तक व्यक्ति जिन्दा है ।

383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुली आंखें जब भी,
खुली आंखें जब भी,
Lokesh Singh
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
तुम्हें लिखना आसान है
तुम्हें लिखना आसान है
Manoj Mahato
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मैं उसकी निग़हबानी का ऐसा शिकार हूँ
मैं उसकी निग़हबानी का ऐसा शिकार हूँ
Shweta Soni
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
हिंदी दोहा शब्द- घटना
हिंदी दोहा शब्द- घटना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ज़ख़्मों पे वक़्त का
ज़ख़्मों पे वक़्त का
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम पगडंडी कंटीली फिर भी जीवन कलरव है।
प्रेम पगडंडी कंटीली फिर भी जीवन कलरव है।
Neelam Sharma
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वो इश्क की गली का
वो इश्क की गली का
साहित्य गौरव
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
पूर्वार्थ
सुनो रे सुनो तुम यह मतदाताओं
सुनो रे सुनो तुम यह मतदाताओं
gurudeenverma198
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
Nanki Patre
यह बात शायद हमें उतनी भी नहीं चौंकाती,
यह बात शायद हमें उतनी भी नहीं चौंकाती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"जिंदगी"
Yogendra Chaturwedi
■ और एक दिन ■
■ और एक दिन ■
*Author प्रणय प्रभात*
"ऐनक"
Dr. Kishan tandon kranti
मेहनत
मेहनत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तिमिर है घनेरा
तिमिर है घनेरा
Satish Srijan
दीवारों में दीवारे न देख
दीवारों में दीवारे न देख
Dr. Sunita Singh
कुंडलिया - गौरैया
कुंडलिया - गौरैया
sushil sarna
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
💐प्रेम कौतुक-94💐
💐प्रेम कौतुक-94💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
सत्य कुमार प्रेमी
3234.*पूर्णिका*
3234.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...