Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 1 min read

परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा

परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा हो, कोई स्लो हो, कोई फास्ट हो, पर जब किसी के 12 बजाने हो तो सब साथ हो, क्योकि, पृथ्वी पर कोई भी व्यक्ति ऐसा नही है जिसको समस्या न हो और पृथ्वी पर कोई भी समस्या ऐसी नही है जिसका कोई समाधान न हो…🙏🪷🏃🏻‍♂️ मतदान अवश्य करे। हममे भी कोई छोटा, बड़ा, स्लो और फास्ट जरूर हो सकता है परन्तु है तो एक ही परिवार। ना क्षेत्रवाद ना जातिवाद और ना ही भेद-भाव की भावनाओ से प्रेरित होकर मतदान करे। जो पार्टी खुलकर राष्ट्रहित सर्वोपरी, देश धर्म का विकास और विरासत का संरक्षण करने की बात कर सकती हो अपना मतदान उसी के लिए दे। सुप्रभात, नमस्कार, वंदेमातरम…भारत माता की जय, जय हिंद 🫡🪷🚭‼️

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ललकार भारद्वाज
View all
You may also like:
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पुरखों के गांव
पुरखों के गांव
Mohan Pandey
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
Neelam Sharma
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
*किसान*
*किसान*
Dushyant Kumar
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
फूल बेजुबान नहीं होते
फूल बेजुबान नहीं होते
VINOD CHAUHAN
मजदूर की बरसात
मजदूर की बरसात
goutam shaw
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
Paras Nath Jha
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
Dr fauzia Naseem shad
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*जानो कछुआ देवता, हुआ कूर्म-अवतार (कुंडलिया)*
*जानो कछुआ देवता, हुआ कूर्म-अवतार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आँख मिचौली जिंदगी,
आँख मिचौली जिंदगी,
sushil sarna
आम पर बौरें लगते ही उसकी महक से खींची चली आकर कोयले मीठे स्व
आम पर बौरें लगते ही उसकी महक से खींची चली आकर कोयले मीठे स्व
Rj Anand Prajapati
मेरा शरीर और मैं
मेरा शरीर और मैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी।
साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी।
Sahil Ahmad
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
Ranjeet kumar patre
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
कवि रमेशराज
"मास्टर कौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
Shweta Soni
2438.पूर्णिका
2438.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
घर से बेघर
घर से बेघर
Punam Pande
*तेरा इंतज़ार*
*तेरा इंतज़ार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
Loading...