Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

*परिचय*

परिचय

काशीसुता ‘प्रतिभा’ मन मोहक रंग-ढंग सी,
गंगाजल सी तरल, सरल मतवाली भंग सी।
प्यारी सुजीत की,
श्रावणी काव्य से मन मानस को सींचती ,
अगस्त्य के कमंडल की तोय कावेरी अभंग सी |

मुझ अनाथ का विश्वनाथ रखवाला ,
तिरूमनम्म्, बालाजी दरबार पहुंचाये मृगछाला ।
बी एच यू नेट पास पहुंची साहित्य के सानिध्य ,
आप के समर्थन से होता ‘प्रति’ का बोलबाला ।

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
1 Like · 120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं चला बन एक राही
मैं चला बन एक राही
AMRESH KUMAR VERMA
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
Who Said It Was Simple?
Who Said It Was Simple?
R. H. SRIDEVI
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
दुनिया में तरह -तरह के लोग मिलेंगे,
दुनिया में तरह -तरह के लोग मिलेंगे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
"गिरना, हारना नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तल्खियां
तल्खियां
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*आज छपा जो समाचार वह, कल बासी हो जाता है (हिंदी गजल)*
*आज छपा जो समाचार वह, कल बासी हो जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
क्रव्याद
क्रव्याद
Mandar Gangal
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
Bhupendra Rawat
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
DrLakshman Jha Parimal
ऐसा कहा जाता है कि
ऐसा कहा जाता है कि
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
कवि रमेशराज
बचपन
बचपन
संजय कुमार संजू
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
Kunal Prashant
दिन की शुरुआत
दिन की शुरुआत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
2939.*पूर्णिका*
2939.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*॥ ॐ नमः शिवाय ॥*
*॥ ॐ नमः शिवाय ॥*
Radhakishan R. Mundhra
व्योम को
व्योम को
sushil sarna
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
सच्चाई है कि ऐसे भी मंज़र मिले मुझे
सच्चाई है कि ऐसे भी मंज़र मिले मुझे
अंसार एटवी
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
मुझे भी
मुझे भी "याद" रखना,, जब लिखो "तारीफ " वफ़ा की.
Ranjeet kumar patre
Loading...