Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 1 min read

परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं

परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं की गलतियों को निकालना पड़ता है,यही परफेक्ट की प्रथम सोपान है। फिर मंजिल खुद-ब-खुद मिलती चली जाएगी।
-सीमा गुप्ता, अलवर राजस्थान

2 Likes · 248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
ruby kumari
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
एहसासे- नमी (कविता)
एहसासे- नमी (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
2453.पूर्णिका
2453.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
Ravi Prakash
मां
मां
Dr.Priya Soni Khare
"आग्रह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बेशर्मी
बेशर्मी
Sanjay ' शून्य'
अमीर घरों की गरीब औरतें
अमीर घरों की गरीब औरतें
Surinder blackpen
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
Sandeep Pande
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
Vishal babu (vishu)
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
किसी दर्दमंद के घाव पर
किसी दर्दमंद के घाव पर
Satish Srijan
प्यार है ही नही ज़माने में
प्यार है ही नही ज़माने में
SHAMA PARVEEN
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
Manisha Manjari
* बातें मन की *
* बातें मन की *
surenderpal vaidya
प्रश्न - दीपक नीलपदम्
प्रश्न - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पत्रकार
पत्रकार
Kanchan Khanna
*शिवोहम्*
*शिवोहम्* "" ( *ॐ नमः शिवायः* )
सुनीलानंद महंत
राख के ढेर की गर्मी
राख के ढेर की गर्मी
Atul "Krishn"
आखिर क्यों
आखिर क्यों
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
Loading...