Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

परतंत्रता की नारी

परतंत्रता की नारी
🍀🙏☘️🙏☘️
पग बंधी परतंत्रता की बेड़ी
अभिव्यक्ति मुंह पर दबी पड़़ी
पग पग खडी फिरंगी काया
दबा रही भारत की मोह माया
झांक रहा था नारी काआंगना
क्रूर क्रूरता से दबी थी बेचारी
भाव भावना दूर खड़ी देख रही
हतप्रस्त लाचारी घर की बेचारी
माता के जिगर पर क्षण क्षण थी
क्रूरता वाणी और घात कुठारी
अमन सुख छीनती देख रही थी
लाचार विवश पड़़ी अवला नारी
जीवन पथ रक्षक मौन खड़ा था
उज्जवल भविष्य पाश से बंधा
मन ही मन रो रही थी भारत नारी
टी.पी. तरुण

98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
"गुणनफल का ज्ञान"
Dr. Kishan tandon kranti
हिंदी का आनंद लीजिए __
हिंदी का आनंद लीजिए __
Manu Vashistha
वो शख्स लौटता नहीं
वो शख्स लौटता नहीं
Surinder blackpen
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Learn to recognize a false alarm
Learn to recognize a false alarm
पूर्वार्थ
नौकरी वाली बीबी
नौकरी वाली बीबी
Rajni kapoor
*कहां किसी को मुकम्मल जहां मिलता है*
*कहां किसी को मुकम्मल जहां मिलता है*
Harminder Kaur
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
ruby kumari
*कुछ सजा खुद को सुनाना चाहिए (हिंदी गजल/गीतिका)*
*कुछ सजा खुद को सुनाना चाहिए (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
2757. *पूर्णिका*
2757. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
ज़िंदगी तुझको
ज़िंदगी तुझको
Dr fauzia Naseem shad
आदम का आदमी
आदम का आदमी
आनन्द मिश्र
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन में दिन चार मिलें है,
जीवन में दिन चार मिलें है,
Satish Srijan
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
*Author प्रणय प्रभात*
नहले पे दहला
नहले पे दहला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वास्तविक प्रकाशक
वास्तविक प्रकाशक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बीते कल की क्या कहें,
बीते कल की क्या कहें,
sushil sarna
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
इश्क़ का दस्तूर
इश्क़ का दस्तूर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐प्रेम कौतुक-453💐
💐प्रेम कौतुक-453💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
औरत तेरी गाथा
औरत तेरी गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
Shweta Soni
जितना सच्चा प्रेम है,
जितना सच्चा प्रेम है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फूल
फूल
Punam Pande
Loading...