Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2024 · 1 min read

परखा बहुत गया मुझको

परखा बहुत गया मुझको
लेकिन समझा कभी नहीं गया मुझको

32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आओ मिलकर नया साल मनाये*
आओ मिलकर नया साल मनाये*
Naushaba Suriya
*Broken Chords*
*Broken Chords*
Poonam Matia
कैसे?
कैसे?
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
2533.पूर्णिका
2533.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हालात ए वक्त से
हालात ए वक्त से
Dr fauzia Naseem shad
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
अहसास तेरे होने का
अहसास तेरे होने का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
सदियों से रस्सी रही,
सदियों से रस्सी रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
हर परिवार है तंग
हर परिवार है तंग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
Rituraj shivem verma
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
🙅घनघोर विकास🙅
🙅घनघोर विकास🙅
*Author प्रणय प्रभात*
छलनी- छलनी जिसका सीना
छलनी- छलनी जिसका सीना
लक्ष्मी सिंह
लोगों का मुहं बंद करवाने से अच्छा है
लोगों का मुहं बंद करवाने से अच्छा है
Yuvraj Singh
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"विचित्रे खलु संसारे नास्ति किञ्चिन्निरर्थकम् ।
Mukul Koushik
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
कवि दीपक बवेजा
*खूब थी जिंदा कि ज्यों, पुस्तक पुरानी कोई वह (मुक्तक)*
*खूब थी जिंदा कि ज्यों, पुस्तक पुरानी कोई वह (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"" *भारत* ""
सुनीलानंद महंत
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
Mansi Tripathi
दिल
दिल
Er. Sanjay Shrivastava
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लालची नेता बंटता समाज
लालची नेता बंटता समाज
विजय कुमार अग्रवाल
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
Harminder Kaur
Loading...