Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 1 min read

“परखना सीख जाओगे “

“परखना सीख जाओगे ”
लड़ना सीख जाओगे
बचना सीख जाओगे
भंवर में कूदकर
तैरना सीख जाओगे
लगेगी जब ठोकर
चलना सीख जाओगे
देख इठलाती कली को
मुस्कुराना सीख जाओगे
बड़ों के सम्मान में
झुकना सीख जाओगे
छोटी-छोटी गलतियों को ” उमंग”
परखना सीख जाओगे।
✍️श्लोक”उमंग”✍️

2 Likes · 342 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डीजे
डीजे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
■ लिख कर रख लो। 👍
■ लिख कर रख लो। 👍
*प्रणय प्रभात*
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
दाद ओ तहसीन ओ सताइश न पज़ीराई को
दाद ओ तहसीन ओ सताइश न पज़ीराई को
Anis Shah
हर जौहरी को हीरे की तलाश होती है,, अज़ीम ओ शान शख्सियत.. गुल
हर जौहरी को हीरे की तलाश होती है,, अज़ीम ओ शान शख्सियत.. गुल
Shweta Soni
"बीज"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रिय-प्रतीक्षा
प्रिय-प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खुद को रखती हूं मैं
खुद को रखती हूं मैं
Dr fauzia Naseem shad
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
Mukta Rashmi
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
कवि रमेशराज
2841.*पूर्णिका*
2841.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रात
रात
SHAMA PARVEEN
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
gurudeenverma198
चाय की प्याली!
चाय की प्याली!
कविता झा ‘गीत’
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह  जाती हूँ
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह जाती हूँ
Amrita Srivastava
सफलता का लक्ष्य
सफलता का लक्ष्य
Paras Nath Jha
ले चल मुझे भुलावा देकर
ले चल मुझे भुलावा देकर
Dr Tabassum Jahan
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
*कभी जिंदगी अच्छी लगती, कभी मरण वरदान है (गीत)*
*कभी जिंदगी अच्छी लगती, कभी मरण वरदान है (गीत)*
Ravi Prakash
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...