Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2022 · 1 min read

“पधारो, घर-घर आज कन्हाई..”

पधारो, घर-घर आज कन्हाई..

द्वापर युग की कथा,
जाय कोऊ बिधि ना बिसराई।
बढ़ने लगे अधर्म,
धर्मवीरोँ पर आफ़त आई।।

लेकर चला बहन को ज्यों,
मथुरा नरेश, अधमाई।
काल बनेगा आठवां,
पुत्र, यही ध्वनि आई।।

कारागृह, वसुदेव-देवकी,
मन-चिन्ता थी भारी।
छह मारे थे कँस,
सातवां नष्ट गर्भ, भरमाई।।

युक्ति कौन बतलाय,
आठवें की आई अब बारी।
करहु कृपा अब नाथ,
देवकी मन ही मन घबराई।।

बढ़े जो अत्याचार, कँस के
प्रजा, बहुत अकुलाई।
भाद्र चढ़त की अष्टमी,
जनमे आज कन्हाई।।

खुले द्वार-पट आप,
किसी सैनिक को ना सुध आई।
लिटा, झवैया पुत्र,
चले लेकर, जमुना उफ़नाई।।

घोर अँधेरी रात,
कड़क सँग दामिनि द्युति चमकाई।
घटने लगा था नीर,
छुआ जैसे ही तट, दम आई।।

पहुंचे गोकुल धाम,
यशोदा-नन्द, छवी मन भाई।
अदला बदली हुई,
बालिका लेकर चले सिहाई।।

कौरव कुल का नाश,
किया स्थापित जग,, धरमाई।
धन्य विष्णु अवतार,
देवजन हरषि सुमन बरसाई।।

आया शुभ दिन आज,
कृष्ण की गावें सब बलिहारी।
सजेँ झाँकियाँ, और दिखे
गृह-शोभा सबसे न्यारी।।

विधि विधान से हो पूजन,
श्रृद्धा-व्रत की तैयारी।
जनम-अष्टमी पर्व,
पधारो, घर-घर आज कन्हाई..!

——//——//——-//——-//——-//——-

रचयिता-

Dr.asha kumar rastogi
M.D.(Medicine),DTCD
Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near sbi Muhamdi,dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M.9415559964

Language: Hindi
23 Likes · 25 Comments · 304 Views
You may also like:
हम दिल से ना हंसे हैं।
Taj Mohammad
फूलों से।
Anil Mishra Prahari
क्षणिकायें-पर्यावरण चिंतन
राजेश 'ललित'
जीने का हुनर आता
Anamika Singh
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'शशिधर'(डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
Advice
Shyam Sundar Subramanian
जनसेवा हित कल्पतरु, बना आपका ट्रस्ट
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
अब अरमान दिल में है
कवि दीपक बवेजा
एक महान सती थी “पद्मिनी”
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
नवगीत---- जीवन का आर्तनाद
Sushila Joshi
भाग्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देश की लानत
Shekhar Chandra Mitra
!!!! मेरे शिक्षक !!!
जगदीश लववंशी
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
*जीवन है मुस्कान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
वक्त गर साथ देता
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्रेम की राह पर-59
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नशा कऽ क नहि गबावं अपन जान यौ
VY Entertainment
ज़ख़्म दिल का
मनोज कर्ण
इंतजार की हद
shabina. Naaz
पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय ४ "विदेशों में पुनर्जन्म की...
Pravesh Shinde
दिन आये हैं मास्क के...
आकाश महेशपुरी
मरहम नहीं बस दुआ दे दो ।
Buddha Prakash
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कजरी लोक गीत
लक्ष्मी सिंह
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
Loading...