Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

“पधारो, घर-घर आज कन्हाई..”

पधारो, घर-घर आज कन्हाई..

द्वापर युग की कथा,
जाय कोऊ बिधि ना बिसराई।
बढ़ने लगे अधर्म,
धर्मवीरोँ पर आफ़त आई।।

लेकर चला बहन को ज्यों,
मथुरा नरेश, अधमाई।
काल बनेगा आठवां,
पुत्र, यही ध्वनि आई।।

कारागृह, वसुदेव-देवकी,
मन-चिन्ता थी भारी।
छह मारे थे कँस,
सातवां नष्ट गर्भ, भरमाई।।

युक्ति कौन बतलाय,
आठवें की आई अब बारी।
करहु कृपा अब नाथ,
देवकी मन ही मन घबराई।।

बढ़े जो अत्याचार, कँस के
प्रजा, बहुत अकुलाई।
भाद्र चढ़त की अष्टमी,
जनमे आज कन्हाई।।

खुले द्वार-पट आप,
किसी सैनिक को ना सुध आई।
लिटा, झवैया पुत्र,
चले लेकर, जमुना उफ़नाई।।

घोर अँधेरी रात,
कड़क सँग दामिनि द्युति चमकाई।
घटने लगा था नीर,
छुआ जैसे ही तट, दम आई।।

पहुंचे गोकुल धाम,
यशोदा-नन्द, छवी मन भाई।
अदला बदली हुई,
बालिका लेकर चले सिहाई।।

कौरव कुल का नाश,
किया स्थापित जग,, धरमाई।
धन्य विष्णु अवतार,
देवजन हरषि सुमन बरसाई।।

आया शुभ दिन आज,
कृष्ण की गावें सब बलिहारी।
सजेँ झाँकियाँ, और दिखे
गृह-शोभा सबसे न्यारी।।

विधि विधान से हो पूजन,
श्रृद्धा-व्रत की तैयारी।
जनम-अष्टमी पर्व,
पधारो, घर-घर आज कन्हाई..!

——//——//——-//——-//——-//——-

रचयिता-

Dr.asha kumar rastogi
M.D.(Medicine),DTCD
Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near sbi Muhamdi,dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M.9415559964

21 Likes · 25 Comments · 201 Views
You may also like:
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
पिता
Satpallm1978 Chauhan
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार
Anamika Singh
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Neha Sharma
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
मेरे साथी!
Anamika Singh
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अरदास
Buddha Prakash
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
Loading...