Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2022 · 1 min read

“पधारो, घर-घर आज कन्हाई..”

पधारो, घर-घर आज कन्हाई..

द्वापर युग की कथा,
जाय कोऊ बिधि ना बिसराई।
बढ़ने लगे अधर्म,
धर्मवीरोँ पर आफ़त आई।।

लेकर चला बहन को ज्यों,
मथुरा नरेश, अधमाई।
काल बनेगा आठवां,
पुत्र, यही ध्वनि आई।।

कारागृह, वसुदेव-देवकी,
मन-चिन्ता थी भारी।
छह मारे थे कँस,
सातवां नष्ट गर्भ, भरमाई।।

युक्ति कौन बतलाय,
आठवें की आई अब बारी।
करहु कृपा अब नाथ,
देवकी मन ही मन घबराई।।

बढ़े जो अत्याचार, कँस के
प्रजा, बहुत अकुलाई।
भाद्र चढ़त की अष्टमी,
जनमे आज कन्हाई।।

खुले द्वार-पट आप,
किसी सैनिक को ना सुध आई।
लिटा, झवैया पुत्र,
चले लेकर, जमुना उफ़नाई।।

घोर अँधेरी रात,
कड़क सँग दामिनि द्युति चमकाई।
घटने लगा था नीर,
छुआ जैसे ही तट, दम आई।।

पहुंचे गोकुल धाम,
यशोदा-नन्द, छवी मन भाई।
अदला बदली हुई,
बालिका लेकर चले सिहाई।।

कौरव कुल का नाश,
किया स्थापित जग,, धरमाई।
धन्य विष्णु अवतार,
देवजन हरषि सुमन बरसाई।।

आया शुभ दिन आज,
कृष्ण की गावें सब बलिहारी।
सजेँ झाँकियाँ, और दिखे
गृह-शोभा सबसे न्यारी।।

विधि विधान से हो पूजन,
श्रृद्धा-व्रत की तैयारी।
जनम-अष्टमी पर्व,
पधारो, घर-घर आज कन्हाई..!

——//——//——-//——-//——-//——-

रचयिता-

Dr.asha kumar rastogi
M.D.(Medicine),DTCD
Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near sbi Muhamdi,dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M.9415559964

Language: Hindi
23 Likes · 25 Comments · 522 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
"आज ख़ुद अपने लिखे
*Author प्रणय प्रभात*
Agar padhne wala kabil ho ,
Agar padhne wala kabil ho ,
Sakshi Tripathi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
Neeraj Agarwal
मंजिलें
मंजिलें
Mukesh Kumar Sonkar
*भादो श्री कृष्णाष्टमी ,उदय कृष्ण अवतार (कुंडलिया)*
*भादो श्री कृष्णाष्टमी ,उदय कृष्ण अवतार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ଆପଣ କିଏ??
ଆପଣ କିଏ??
Otteri Selvakumar
मेरी माँ
मेरी माँ
Pooja Singh
🪸 *मजलूम* 🪸
🪸 *मजलूम* 🪸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
Rekha khichi
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
3079.*पूर्णिका*
3079.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
Manoj Kushwaha PS
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
Manisha Manjari
Speak with your work not with your words
Speak with your work not with your words
Nupur Pathak
सुनो ये मौहब्बत हुई जब से तुमसे ।
सुनो ये मौहब्बत हुई जब से तुमसे ।
Phool gufran
रात
रात
sushil sarna
साल को बीतता देखना।
साल को बीतता देखना।
Brijpal Singh
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
DrLakshman Jha Parimal
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
Keshav kishor Kumar
"बड़ा सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
मतदान और मतदाता
मतदान और मतदाता
विजय कुमार अग्रवाल
भारत माता के सच्चे सपूत
भारत माता के सच्चे सपूत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...