Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

पत्नी के डबल रोल

पत्नी के डबल रोल
१.मां-बाप डांटे तो घर के बड़े हैं, सांस ससुर डांटे तो पीछे पड़े हैं।
२.पिता के घर मेहमान आए तो भगवान है,पति के घर मेहमान आए तो शैतान है।
३.पिता कोई मांग पूरी न कर पाये तो मजबूरी थी, पति कोई मांग पूरी न कर पाये तो शादी करनी जरूरी थी।
४.मायके की बाते किसी को नहीं बतातीं, ससुराल की बाते किसी से नहीं छुपाती।
५.भाई धमका दें तो लाड़ प्यार था,देवर जेठ धमका दें तो बेकार है।
श्लोक मौर्य “उमंग”✍️✍️✍️✍️

2 Likes · 4 Comments · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"साम","दाम","दंड" व् “भेद" की व्यथा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
*हो न लोकतंत्र की हार*
*हो न लोकतंत्र की हार*
Poonam Matia
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
शासन हो तो ऐसा
शासन हो तो ऐसा
जय लगन कुमार हैप्पी
दुनिया
दुनिया
Mangilal 713
■ अब भी समय है।।
■ अब भी समय है।।
*प्रणय प्रभात*
कर्म कांड से बचते बचाते.
कर्म कांड से बचते बचाते.
Mahender Singh
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ज्योति
सुबह-सुबह की चाय और स़ंग आपका
सुबह-सुबह की चाय और स़ंग आपका
Neeraj Agarwal
खुद को तलाशना और तराशना
खुद को तलाशना और तराशना
Manoj Mahato
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
लक्ष्मी सिंह
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
"गम का सूरज"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत दुनिया की...
फितरत दुनिया की...
डॉ.सीमा अग्रवाल
शार्टकट
शार्टकट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
पूर्वार्थ
बातें
बातें
Sanjay ' शून्य'
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
कैलेंडर नया पुराना
कैलेंडर नया पुराना
Dr MusafiR BaithA
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
कवि रमेशराज
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
Madhuyanka Raj
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
Dr fauzia Naseem shad
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ईश्वर से ...
ईश्वर से ...
Sangeeta Beniwal
जय शिव शंकर ।
जय शिव शंकर ।
Anil Mishra Prahari
Loading...