Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2022 · 1 min read

पत्थर दिखता है . (ग़ज़ल)

सिमटा सिमटा एक समन्दर दिखता है
बाहर से भी ख़ुद के अन्दर दिखता है

साथ सभी को जब लेकर वो चलता है
टूटा -टूटा मुझको अक्सर दिखता है

टकराता है जब वो अक्सर शीशे से
फूल लिए हाथों में पत्थर दिखता है

सूखे पत्ते हरे नही होंगे ये तय है
साख़ पे लटका फिर क्यों खंज़र दिखता है

नज़र न आये भले किसी नज़र में फिर भी
हमें हमारी वहीं मुकद्दर दिखता है

नही अगर है मेरे लिए कुछ उसमें तो फिर
देखता छुप क्यों मुझको मंज़र दिखता है

‘महज़’ यहीं एहसास हुआ है रातों में
दिनभर वो ख़्वाबों के अन्दर दिखता है

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
गुरु मेरा मान अभिमान है
गुरु मेरा मान अभिमान है
Harminder Kaur
2433.पूर्णिका
2433.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*खुशबू*
*खुशबू*
Shashi kala vyas
*समता भरी कहानी (मुक्तक)*
*समता भरी कहानी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
Naushaba Suriya
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
हम हैं कक्षा साथी
हम हैं कक्षा साथी
Dr MusafiR BaithA
सच में शक्ति अकूत
सच में शक्ति अकूत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
खुद पर ही
खुद पर ही
Dr fauzia Naseem shad
पागल बना दिया
पागल बना दिया
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एक ज़िंदा मुल्क
एक ज़िंदा मुल्क
Shekhar Chandra Mitra
हार फिर होती नहीं...
हार फिर होती नहीं...
मनोज कर्ण
नारी
नारी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भारत
भारत
नन्दलाल सुथार "राही"
बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
कवि दीपक बवेजा
सब्र
सब्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
तब जानोगे
तब जानोगे
विजय कुमार नामदेव
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
बेशर्मी के हौसले
बेशर्मी के हौसले
RAMESH SHARMA
जीवनमंथन
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
ऐ वतन....
ऐ वतन....
Anis Shah
💐प्रेम की राह पर-75💐
💐प्रेम की राह पर-75💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
जबसे उनको रकीब माना है।
जबसे उनको रकीब माना है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
Loading...