Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 3 min read

पति का ब्यथा

मेरे साथ तुम्हारे द्वारा किया गया दुर्व्यवहार अच्छा नहीं है और मैंने इस तरह के दुर्व्यवहार को पूरे चौदह वर्ष से कैसे काटते आया हूँ इसे केवल हम ही जानते हैं । तुम मेरा समय बर्बाद कर खुद अपना भी समय बर्बाद कर रही हो और एकदिन इस तरह पूरा बर्बाद कर लोगी । इसलिये हमें बर्बाद या आबाद करने में मत लगी रहो , जाओ तुम अपना नया और अच्छा भविष्य बनाओ वक्त है अभी नहीं तो तेरा पुराना इतिहास तो हम बना ही चुके हैं अब बचा ही क्या है ? अब कभी तुम हमारे रिश्ते पर ऐतबार मत करना और ना कभी हमसे दिल लगाने की गुस्ताखी ही करना । तुम्हारी सारी गलतियों को मैंने माफ कर दिया इसका मतलब यह नहीं कि मैं फिर से तुम्हें अपने दिल में बसा लूँ । अब यह नहीं हो सकता और कभी नहीं हो सकता । तुम एक लड़की हो इसका मतलब क्या । तुम अपनी मनमानी मनमर्जी करोगी । घर में पति और गार्जियन की बात नहीं मानोगी । तुम शादी करो उसके वंश को बढ़ाओ और फिर उसका मेंटली शोषण करो । ये कहाँ तक जायज है । जो देखेगा वो ये कहेगा कि हमें यह सब लिखना या बोलना नहीं चाहिए था । मगर क्या करूँ मजबूर हूँ और तुमने मुझे लिखने के लिए आज मजबूर कर दिया है । अरे जब लोग मुँह से बोलते हैं तो यकीन नहीं करते हैं उसे पागल आवारा बददिमाग समझते हैं । लेकिन लोग यहाँ जो लिख देते हैं तो उसे सच समझते हैं है न । मेरे साथ तुमने गलत किया है यहाँ चोट केवल मेरे दिल को पहुँची है और इस तरह तुम मेरे साथ पूरे चौदह वर्षों से करती आ रही हो । जब तुम्हें हमारे साथ नहीं रहना था तो किसी को या कभी हमें बतायी क्यों नहीं ? केवल हमारी संपत्ति के लिए तुम मेरे साथ हो ? वो तो तुम्हें कभी मिलेगा ही नहीं ? शायद हमारे मरने के बाद हो सकता है तुम सफल हो जाओ । तुम्हारे माता पिता और भाई एकदम लालची हैं । तुम सब लालची हो । मैंने शराब नहीं पिया है और ना कभी मैं शराब को आजतक हाथ लगाया हूँ । लेकिन इस दिमागी टेंशन के कारण अगर मैं कहीं मर वर गया तो मेरे मरने का कारण सिर्फ तुम होगी सिर्फ तुम । हमारे दोनों बच्चों को और हमारे बूढ़े पिताजी को तुम सँभालना । क्योंकि अब ये सब केवल तुम्हारी जिम्मेदारीयों पर रहेंगे याद रखना । हमसे अगर मन नहीं भरता है तुम्हें तो तुम दूसरी शादी कर लो किसने रोका है मगर साफ साफ हमें बता दो हमारे लिए यही बहुत है । हमें अफसोस नहीं बल्कि तुमपे गर्व होगा मगर इस तरह नहीं कि अगर कोई वाद विवाद हमदोनों के बीच में हो जाये तो दो चार महीना लगातार बातचीत ही ना हो, हमदोनों एकदूसरे से मिले जुले नहीं, और फिर अचानक तुम किसी के कहने सुनने पर मेरे पास आओ और फिर हमसे रिश्ता कायम कर फिर दो चार महीना हमें इंतजार कराओ । बस बाबा बस ये गलत है सरासर गलत है, आखिर क्यों ? मेरी गलती क्या है ? हमें माफ करो यार बख्श दो हमें । हमें नहीं रखना तुमसे कोई भी रिश्ता । जो प्यार हमें तुमसे मिलना चाहिए था वो प्यार तुमसे मुझे आजतक कभी मिला ही नहीं इसका जिंदगी भर अफसोस रहेगा हमें । क्या तुमसे शादी करना हमारी गलती थी अगर गलती थी या है तो मैं तुम्हें उस बंधन से मुक्त करता हूँ जाओ हमसे दूर हो जाओ । नहीं जरूरत है हमें तुम्हारी । मैं जी लूँगा अपनी जिंदगी तुम्हारे बिना भी ।इतना भगवान ने हमें शक्ति दिया है । हम किसी के शरीर के भुखे नहीं हैं अरे हम तो बस प्यार के भूखे थे जो मुझे तुमसे कभी मिला ही नहीं । मैंने तुम्हारे लिए क्या नहीं किया मगर उसका कुछ मोल नहीं । पर अब नहीं ! अब बहुत हो गया ।

लेखक :– मनमोहन कृष्ण
तारीख :– 10/07/2024
समय :– 04 : 38 (सुबह)

Language: Hindi
20 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
साक्षात्कार- पीयूष गोयल लेखक
साक्षात्कार- पीयूष गोयल लेखक
Piyush Goel
कदम पीछे हटाना मत
कदम पीछे हटाना मत
surenderpal vaidya
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
3058.*पूर्णिका*
3058.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
जाने कितने चढ़ गए, फाँसी माँ के लाल ।
जाने कितने चढ़ गए, फाँसी माँ के लाल ।
sushil sarna
నమో నమో నారసింహ
నమో నమో నారసింహ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जब तू मिलती है
जब तू मिलती है
gurudeenverma198
गुलाबों सी महक है तेरे इन लिबासों में,
गुलाबों सी महक है तेरे इन लिबासों में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ये बेकरारी, बेखुदी
ये बेकरारी, बेखुदी
हिमांशु Kulshrestha
आए थे बनाने मनुष्य योनि में पूर्वजन्म की बिगड़ी।
आए थे बनाने मनुष्य योनि में पूर्वजन्म की बिगड़ी।
Rj Anand Prajapati
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
Memories
Memories
Sampada
तिलिस्म
तिलिस्म
Dr. Rajeev Jain
खुला आसमान
खुला आसमान
Surinder blackpen
मुश्किलें
मुश्किलें
Sonam Puneet Dubey
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नम आंखे बचपन खोए
नम आंखे बचपन खोए
Neeraj Mishra " नीर "
घाटे का सौदा
घाटे का सौदा
विनोद सिल्ला
"सत्य" युग का आइना है, इसमें वीभत्स चेहरे खुद को नहीं देखते
Sanjay ' शून्य'
राखी है अनमोल बहना की ?
राखी है अनमोल बहना की ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
There are instances that people will instantly turn their ba
There are instances that people will instantly turn their ba
पूर्वार्थ
श्रेष्ठता
श्रेष्ठता
Paras Nath Jha
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
Shreedhar
निकले थे चांद की तलाश में
निकले थे चांद की तलाश में
Dushyant Kumar Patel
"मास्टर कौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
Loading...