Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2022 · 1 min read

पंजाबी गीत

चांदी बरगा हुस्न ये तेरा , फूलों सा ये कोमल चेहरा
मैन्नू तेरे नाल प्यार हो गया , हुण दस मैं की करां

हिरनी बरगी चाल है तेरी , होंठ तेरे गुलाब की पंखुड़ी
मैन्नू तेरे नाल प्यार हो गया , हुण दस मैं की करां

तुझको मैं बाहों में भर लूं , प्यार दीयां मीठी – मीठी गल्लां कर लूं
मैन्नू तेरे नाल प्यार हो गया , हुण दस मैं की करां

राती मुझको नींद न आवे , तेरी याद है मुझे सतावे
मैन्नू तेरे नाल प्यार हो गया , हुण दस मैं की करां

तेरे डैडी नू मिलवा दे , शादी की तू बात चला दे
मैन्नू तेरे नाल प्यार हो गया , हुण दस मैं की करां

मेरे घर को रोशन कर दे , दो बच्चों का बाप बना दे
मैन्नू तेरे नाल प्यार हो गया , हुण दस मैं की करां

दिल में अपने जगह दिला दे , इश्क की तू कोठी बनवा दे
मैन्नू तेरे नाल प्यार हो गया , हुण दस मैं की करां

इश्क में तेरे मैं मर जावाँ , जो मैं तैन्नू न पावां
मैन्नू तेरे नाल प्यार हो गया , हुण दस मैं की करां

चांदी बरगा हुस्न ये तेरा , फूलों सा ये कोमल चेहरा
मैन्नू तेरे नाल प्यार हो गया , हुण दस मैं की करां

हिरनी बरगी चाल है तेरी , होंठ तेरे गुलाब की पंखुड़ी
मैन्नू तेरे नाल प्यार हो गया , हुण दस मैं की करां

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 2 Comments · 140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
अथर्व आज जन्मदिन मनाएंगे
अथर्व आज जन्मदिन मनाएंगे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सीख बुद्ध से ज्ञान।
सीख बुद्ध से ज्ञान।
Buddha Prakash
"छत का आलम"
Dr Meenu Poonia
सफल इंसान की खूबियां
सफल इंसान की खूबियां
Pratibha Kumari
बरगद पीपल नीम तरु
बरगद पीपल नीम तरु
लक्ष्मी सिंह
दो पल देख लूं जी भर
दो पल देख लूं जी भर
आर एस आघात
बाल कविता: मूंगफली
बाल कविता: मूंगफली
Rajesh Kumar Arjun
मस्ती को क्या चाहिए ,मन के राजकुमार( कुंडलिया )
मस्ती को क्या चाहिए ,मन के राजकुमार( कुंडलिया )
Ravi Prakash
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
जगदीश शर्मा सहज
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
मुझे छेड़ो ना इस तरह
मुझे छेड़ो ना इस तरह
Basant Bhagawan Roy
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
Suryakant Dwivedi
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
सच का सूरज
सच का सूरज
Shekhar Chandra Mitra
भूमि दिवस
भूमि दिवस
SATPAL CHAUHAN
जीवन दर्शन
जीवन दर्शन
Prakash Chandra
Bundeli Doha-Anmane
Bundeli Doha-Anmane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सांझा चूल्हा4
सांझा चूल्हा4
umesh mehra
मैं क्यों याद करूँ उनको
मैं क्यों याद करूँ उनको
gurudeenverma198
हम पर ही नहीं
हम पर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
आस पड़ोस का सब जानता है..
आस पड़ोस का सब जानता है..
कवि दीपक बवेजा
*_......यादे......_*
*_......यादे......_*
Naushaba Suriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
डॉ० रोहित कौशिक
अमर्यादा
अमर्यादा
साहिल
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
Manisha Manjari
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
Yogini kajol Pathak
Loading...