Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

” नैना हुए रतनार “

विधा : गीत (गीता छंद)
मापनी : 2212 2212 2212 221

गीत

लज्जावनत रजनी चली , अब भोर है इस पार .
कैसे करे वह सामना , नैना हुए रतनार .

छाई हुई नभ पर उषा , आकाश है रक्ताभ .
दिनकर चढ़े रथ , जोश भर , ले रश्मियाँ स्वर्णाभ .
कलरव हुआ खग वृन्द का , स्वागत हुआ साभार .
लज्जावनत रजनी चली , अब भोर है इस पार .

खिलते हुए उपवन सभी , बिखरी हुई है गंध .
मिलना हुआ है वायु से , तो हो रहे अनुबंध .
है जागरण , न्यौते दिवस , कर प्रेरणा संचार .
लज्जावनत रजनी चली , अब भोर है इस पार .

जागी हुई लागे अवनि , हैं साधने जो लक्ष्य .
सम्मुख खड़े हैं नैन के , अभिराम से कुछ दृश्य .
जन जन चला नव खोज है , वह तय करे आधार .
लज्जावनत रजनी चली , अब भोर है इस पार .

बाजी लगी है कर्म की , उपलब्धियों की दौड़ .
राहें रही सबकी पृथक , फिर भी मची है हौड़ .
हैं लालसाएं फिर जगी , करने चले साकार .
लज्जावनत रजनी चली , अब भोर है इस पार .

स्वरचित / रचियता :
बृज व्यास
शाजापुर ( मध्य प्रदेश )

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिता का प्यार
पिता का प्यार
Befikr Lafz
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता
पिता
Kanchan Khanna
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
अभिमान  करे काया का , काया काँच समान।
अभिमान करे काया का , काया काँच समान।
Anil chobisa
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" रचना शमशान वैराग्य -  Fractional Detachment  
Atul "Krishn"
संवेदना बोलती आँखों से 🙏
संवेदना बोलती आँखों से 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आंखें भी खोलनी पड़ती है साहब,
आंखें भी खोलनी पड़ती है साहब,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
गीत
गीत "आती है अब उनको बदबू, माॅ बाबा के कमरे से"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
रहब यदि  संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
रहब यदि संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
DrLakshman Jha Parimal
यह जीवन भूल भूलैया है
यह जीवन भूल भूलैया है
VINOD CHAUHAN
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
पूर्वार्थ
त्रेतायुग-
त्रेतायुग-
Dr.Rashmi Mishra
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
........,,?
........,,?
शेखर सिंह
धोखा
धोखा
Paras Nath Jha
फिर जनता की आवाज बना
फिर जनता की आवाज बना
vishnushankartripathi7
आबरू भी अपनी है
आबरू भी अपनी है
Dr fauzia Naseem shad
*योग शब्द का अर्थ ध्यान में, निराकार को पाना ( गीत)*
*योग शब्द का अर्थ ध्यान में, निराकार को पाना ( गीत)*
Ravi Prakash
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
बिना दूरी तय किये हुए कही दूर आप नहीं पहुंच सकते
बिना दूरी तय किये हुए कही दूर आप नहीं पहुंच सकते
Adha Deshwal
"पतझड़"
Dr. Kishan tandon kranti
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
राम का आधुनिक वनवास
राम का आधुनिक वनवास
Harinarayan Tanha
इक शे'र
इक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"बेजुबान"
Pushpraj Anant
रदुतिया
रदुतिया
Nanki Patre
Loading...