नेह लुटाती चाँदनी

शीतल, उज्जवल रश्मियाँ, बरसे अमृत धार।
नेह लुटाती चाँदनी, कर सोलह श्रृंगार।।

शरद पूर्णिमा रात में, खिले कुमुदनी फूल।
रास रचाए मोहना, कालिंदी के कूल।।

सोलह कला मयंक की, आश्विन पूनो ख़ास।
उतरी धरा पर माँ श्री, आया कार्तिक मास।।

लक्ष्मी की आराधना, अमृतमय खीर पान।
पूर्ण हो मनोकामना, बढे मान-सम्मान।।

© हिमकर श्याम

232 Views
You may also like:
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
उस दिन
Alok Saxena
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H.
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H.
【22】 तपती धरती करे पुकार
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
औरतें
Kanchan Khanna
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
राम
Saraswati Bajpai
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
शिव शम्भु
Anamika Singh
धुँध
Rekha Drolia
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Loading...