Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 8, 2016 · 1 min read

नेता जी

भोली भाली जनता को ना मूर्ख बनाओ नेता जी !
जीत गए अब पाँच साल तुम मौज मनाओ नेता जी !!

हम गरीब का दाल, टमाटर भी तुम महँगा कर बैठे,
अच्छा दिन अब कब आयेगा हमे बताओ नेता जी !!

तरह तरह के चले योजनाओं का तुमने लाभ लिया,
खून पी रहे हम गरीब का मास ना खाओ नेता जी !!

स्मार्ट सिटी तुम खूब बनाए फ्लैट बीस मंज़िल वाले,
बहुत हो चुका सुनते सुनते अब तुम जाओ नेता जी !!

चिकनी चुपड़ी बातों में अब हम नहीं फँसने वाले,
बेरोजगार है युवा साथी मिलकर आओ नेता जी !!

भ्रस्टाचार खत्म करने का भाषण बहुत सुना हमने,
बिना घोस के कार्यालय में काम कराओ नेता जी !!
08871887126

385 Views
You may also like:
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
संत की महिमा
Buddha Prakash
पिता
Meenakshi Nagar
अरदास
Buddha Prakash
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
समय ।
Kanchan sarda Malu
पिता
Satpallm1978 Chauhan
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
मेरी लेखनी
Anamika Singh
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...