Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

नेता जी

भोली भाली जनता को ना मूर्ख बनाओ नेता जी !
जीत गए अब पाँच साल तुम मौज मनाओ नेता जी !!

हम गरीब का दाल, टमाटर भी तुम महँगा कर बैठे,
अच्छा दिन अब कब आयेगा हमे बताओ नेता जी !!

तरह तरह के चले योजनाओं का तुमने लाभ लिया,
खून पी रहे हम गरीब का मास ना खाओ नेता जी !!

स्मार्ट सिटी तुम खूब बनाए फ्लैट बीस मंज़िल वाले,
बहुत हो चुका सुनते सुनते अब तुम जाओ नेता जी !!

चिकनी चुपड़ी बातों में अब हम नहीं फँसने वाले,
बेरोजगार है युवा साथी मिलकर आओ नेता जी !!

भ्रस्टाचार खत्म करने का भाषण बहुत सुना हमने,
बिना घोस के कार्यालय में काम कराओ नेता जी !!
08871887126

Language: Hindi
648 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
विमला महरिया मौज
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
SATPAL CHAUHAN
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
“ OUR NEW GENERATION IS OUR GUIDE”
“ OUR NEW GENERATION IS OUR GUIDE”
DrLakshman Jha Parimal
* माथा खराब है *
* माथा खराब है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Meera Singh
2558.पूर्णिका
2558.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दशमेश के ग्यारह वचन
दशमेश के ग्यारह वचन
Satish Srijan
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
Ravikesh Jha
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
आलस्य का शिकार
आलस्य का शिकार
Paras Nath Jha
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
कवि दीपक बवेजा
तेरी आंखों में है जादू , तेरी बातों में इक नशा है।
तेरी आंखों में है जादू , तेरी बातों में इक नशा है।
B S MAURYA
बेटीयां
बेटीयां
Aman Kumar Holy
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
रिश्तों को निभा
रिश्तों को निभा
Dr fauzia Naseem shad
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
मैं खाना खाकर तुमसे चैट करूँगा ।
मैं खाना खाकर तुमसे चैट करूँगा ।
Dr. Man Mohan Krishna
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
Ragini Kumari
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
ये दुनिया है
ये दुनिया है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Little Things
Little Things
Dhriti Mishra
*कहा चैत से फागुन ने, नव वर्ष तुम्हारा अभिनंदन (गीत)*
*कहा चैत से फागुन ने, नव वर्ष तुम्हारा अभिनंदन (गीत)*
Ravi Prakash
नारी बिन नर अधूरा✍️
नारी बिन नर अधूरा✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
Loading...