Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2022 · 1 min read

नींद खो दी

ख़्वाब कोई हमें नहीं आया ।
नींद खो दी तेरे ख़्यालों में ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
10 Likes · 74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
गांव अच्छे हैं।
गांव अच्छे हैं।
Amrit Lal
मशहूर हो जाऊं
मशहूर हो जाऊं
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
स्मृतियों का सफर (23)
स्मृतियों का सफर (23)
Seema gupta,Alwar
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
*वृद्ध-आश्रम : आठ दोहे*
*वृद्ध-आश्रम : आठ दोहे*
Ravi Prakash
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
मात पिता
मात पिता
विजय कुमार अग्रवाल
आपके अन्तर मन की चेतना अक्सर जागृत हो , आपसे , आपके वास्तविक
आपके अन्तर मन की चेतना अक्सर जागृत हो , आपसे , आपके वास्तविक
Seema Verma
If your heart is
If your heart is
Vandana maurya
#उल्टा_पुल्टा
#उल्टा_पुल्टा
*Author प्रणय प्रभात*
"तुम्हारी हंसी" (Your Smile)
Sidhartha Mishra
लोकतंत्र में शक्ति
लोकतंत्र में शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"सूनी मांग" पार्ट-2 कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत, गुजरात!
Radhakishan Mundhra
2246.🌹इंसान हूँ इंसानियत की बात करता हूँ 🌹
2246.🌹इंसान हूँ इंसानियत की बात करता हूँ 🌹
Dr.Khedu Bharti
"Har Raha mukmmal kaha Hoti Hai
कवि दीपक बवेजा
"बरसात"
Dr. Kishan tandon kranti
"सोच अपनी अपनी"
Dr Meenu Poonia
सच है, दुनिया हंसती है
सच है, दुनिया हंसती है
Saraswati Bajpai
मैं चाहता हूँ अब
मैं चाहता हूँ अब
gurudeenverma198
बेटी
बेटी
Sushil chauhan
नन्हे बाल गोपाल के पाच्छे मैया यशोदा दौड़ लगाये.....
नन्हे बाल गोपाल के पाच्छे मैया यशोदा दौड़ लगाये.....
Ram Babu Mandal
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
AMRESH KUMAR VERMA
वो भी क्या दिन थे,
वो भी क्या दिन थे,
Dr. Rajiv
💐अज्ञात के प्रति-50💐
💐अज्ञात के प्रति-50💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं कुछ इस तरह
मैं कुछ इस तरह
Dr Manju Saini
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
Aniruddh Pandey
भूख दौलत की जिसे,  रब उससे
भूख दौलत की जिसे, रब उससे
Anis Shah
Loading...