Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

नियत समय संचालित होते…

नियत समय संचालित होते…

नियत समय संचालित होते,
कुदरत के व्यापार।
नहीं किसी को द्वेष किसी से,
नहीं किसी से खार।

नियत सभी की सीमाएँ हैं,
नियत सभी के कर्म।
सूरज-चाँद-सितारे-नभ-सरि,
निभा रहे नित धर्म।
अस्वीकृति का कभी किसी में ,
उपजा नहीं विचार।

कुदरत से जो मिला जिसे है,
सहज उसे स्वीकार्य।
बिना स्वार्थ जगहित रत प्रकृति,
देखो तो औदार्य।
थाल सजाए स्वाद अनूठे,
लिए खड़ी साकार।

कार्य जिसे जो मिला नियति से,
उसे निभाना धर्म।
काबिलियत है किसमें कितनी,
कहते उसके कर्म।
चलना पथ पर सच्चाई के,
जीत मिले या हार।

रखते हैं सब पृथक् वृत्तियाँ,
हुनर सभी में भिन्न।
नहीं और से गुण तुझमें तो,
काहे होता खिन्न।
कौन यहाँ संपूर्ण जगत में,
किसमें नहीं विकार ?

मूर्ख ! लोभ में क्षणिक सुखों के,
मत कर पाप जघन्य।
कर परहित में अर्पित काया,
करते ज्यों पर्जन्य।
स्वार्थ कुटिल ही बैठा मन में,
भरता तुझमें धार।

सुंदरतम कृति तू ईश्वर की,
बुद्धि ज्ञान संपन्न।
दुर्दशा कर स्वयं ही अपनी,
काहे खड़ा विपन्न ?
लौट प्रकृति की ओर मनुज, तो
माँ-सा मिले दुलार।

© डॉ. सीमा अग्रवाल,
जिगर कॉलोनी,
मुरादाबाद ( उ.प्र.)
“मनके मेरे मन के” से

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
द्वारिका गमन
द्वारिका गमन
Rekha Drolia
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Jatashankar Prajapati
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
पेंशन
पेंशन
Sanjay ' शून्य'
तुम्हारी वजह से
तुम्हारी वजह से
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*सीधेपन से आजकल, दुनिया कहीं चलती नहीं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*सीधेपन से आजकल, दुनिया कहीं चलती नहीं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
ये नोनी के दाई
ये नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अलार्म
अलार्म
Dr Parveen Thakur
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सांत्वना
सांत्वना
भरत कुमार सोलंकी
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हृदय के राम
हृदय के राम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आज हमारा इंडिया
आज हमारा इंडिया
*प्रणय प्रभात*
चश्मा
चश्मा
Awadhesh Singh
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
जय जय दुर्गा माता
जय जय दुर्गा माता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
पूर्वार्थ
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
खेल और भावना
खेल और भावना
Mahender Singh
*वक्त की दहलीज*
*वक्त की दहलीज*
Harminder Kaur
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
शेखर सिंह
"चाँद बीबी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...