Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 1 min read

ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,

ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
अरबो, खरबो, में से एक तुच्छ प्राणी हूँ,
इतना भी गूढ़ता न लिया करो मेरी बाते,
मैं भी तुम सा नादाँ नासमझ अज्ञानी हूँ !
!
डी के निवातिया

437 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सच्ची मोहब्बत के बगैर"
Dr. Kishan tandon kranti
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
2. काश कभी ऐसा हो पाता
2. काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
Satish Srijan
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
Kumar lalit
🌹⚘2220.
🌹⚘2220.
Dr.Khedu Bharti
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
बड़ी कालोनियों में, द्वार पर बैठा सिपाही है (हिंदी गजल/ गीति
बड़ी कालोनियों में, द्वार पर बैठा सिपाही है (हिंदी गजल/ गीति
Ravi Prakash
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
Phool gufran
#निस्वार्थ-
#निस्वार्थ-
*Author प्रणय प्रभात*
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
वार
वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
आकुल बसंत!
आकुल बसंत!
Neelam Sharma
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कितने घर ख़ाक हो गये, तुमने
कितने घर ख़ाक हो गये, तुमने
Anis Shah
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है  जब उसकी प्रेमि
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है जब उसकी प्रेमि
पूर्वार्थ
बेरोजगारी
बेरोजगारी
साहित्य गौरव
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
कवि रमेशराज
प्यार में
प्यार में
श्याम सिंह बिष्ट
"सुरेंद्र शर्मा, मरे नहीं जिन्दा हैं"
Anand Kumar
रातो ने मुझे बहुत ही वीरान किया है
रातो ने मुझे बहुत ही वीरान किया है
कवि दीपक बवेजा
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
gurudeenverma198
वाह रे जमाना
वाह रे जमाना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैं अपना सबकुछ खोकर,
मैं अपना सबकुछ खोकर,
लक्ष्मी सिंह
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
" नयन अभिराम आये हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...