Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2017 · 1 min read

नारी का सम्मान

पेंडिंग हों जहँ रेप के, . केस करोड़ों यार !
तहँ रमेश महिला दिवस, लगता है बेकार !!
कहने को महिला दिवस,. सभी मनाएं आज।
नारी की लुटती रहे, ….मगर निरंतर लाज !!
बेटी माँ सासू पिया,..सबका रखे खयाल !
नारी के बलिदान की,क्या दूँ और मिसाल !!
नारी के सम्मान की, बात करें पुरजोर !
घर में बीवी का करें,तिरस्कार घनघोर!!
नारी का होता नहीं, वहां कभी सम्मान !
जहां बसे इंसान की ,.. सूरत में हैवान !!
उलट पुलट धरती हुई,बदल गया इतिहास !
पृथ्वी पर जब जब हुआ नारी का उपहास !!
नारी को ना मिल सका,उचित अगर सम्मान !
शायद ही हो पाय फिर भारत का उत्थान !!
नारी की तकदीर में,. कहाँ लिखा आराम !
पहले ऑफिस बाद में,घर के काम तमाम !!
सास ससुर बच्चे पती,जो भी रहता साथ !
ध्यान सभी का आपको,काम करे निस्वार्थ !!
नारी ही करती नही,नारी का सम्मान !
नारी के गुणधर्म की,कैसे हो पहचान !!
रमेश शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 1468 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
मां (संस्मरण)
मां (संस्मरण)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरा वजूद क्या है
मेरा वजूद क्या है
भरत कुमार सोलंकी
सुबह-सुबह की चाय और स़ंग आपका
सुबह-सुबह की चाय और स़ंग आपका
Neeraj Agarwal
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"वो कलाकार"
Dr Meenu Poonia
दोहावली ओम की
दोहावली ओम की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
मैंने बार बार सोचा
मैंने बार बार सोचा
Surinder blackpen
"रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
पूर्वार्थ
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"मोहे रंग दे"
Ekta chitrangini
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
लक्ष्मी सिंह
मुक्ति
मुक्ति
Amrita Shukla
*बात-बात में बात (दस दोहे)*
*बात-बात में बात (दस दोहे)*
Ravi Prakash
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
Vijay kumar Pandey
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बुंदेली चौकड़िया-पानी
बुंदेली चौकड़िया-पानी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जन्मपत्री / मुसाफ़िर बैठा
जन्मपत्री / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
3227.*पूर्णिका*
3227.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर बच्चा एक गीता है 🙏
हर बच्चा एक गीता है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
ईश्वर के नाम पत्र
ईश्वर के नाम पत्र
Indu Singh
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
surenderpal vaidya
चुनाव 2024....
चुनाव 2024....
Sanjay ' शून्य'
समझदार बेवकूफ़
समझदार बेवकूफ़
Shyam Sundar Subramanian
Loading...