Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2016 · 1 min read

नारी और धरती

नारी – धरा की कहानी अजीब है .
सब कुछ सहना ही उसका नसीब है .
नारी के गर्भ से ही ज़िन्दगी जनमती है .
धरती के गर्भ से ही ज़िन्दगी पलती है .
फिर भी ये दुनिया दोनों का रकीब है .
सब कुछ सहना ही उसका नसीब है .
कन्या की भूर्ण ह्त्या कर रहा समाज है .
धरती की हरियाली का करता विनाश है .
समझेगा कब ये मानव कितना बदनसीब है .
सब कुछ सहना ही उसका नसीब है .
नारी पुरुष की माता, पत्नी – राज़दार है .
नारी सिंगार है तो, नारी कटार है .
नारी सा ना बैरी कोई, ना नारी सा हबीब है .
सब कुछ सहना ही उसका नसीब है .
— सतीश मापतपुरी

Language: Hindi
Tag: गीत
679 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अनुभव
अनुभव
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
2913.*पूर्णिका*
2913.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
गुमनाम 'बाबा'
किसको सुनाऊँ
किसको सुनाऊँ
surenderpal vaidya
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
Harminder Kaur
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"मुझे देखकर फूलों ने"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति प्रेम
प्रकृति प्रेम
Ratan Kirtaniya
रुदंन करता पेड़
रुदंन करता पेड़
Dr. Mulla Adam Ali
ज़िंदगी हो
ज़िंदगी हो
Dr fauzia Naseem shad
भाग्य
भाग्य
Sarla Sarla Singh "Snigdha "
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
इज़ाजत लेकर जो दिल में आए
इज़ाजत लेकर जो दिल में आए
शेखर सिंह
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
मकर संक्रांति -
मकर संक्रांति -
Raju Gajbhiye
दोनों की सादगी देख कर ऐसा नज़र आता है जैसे,
दोनों की सादगी देख कर ऐसा नज़र आता है जैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट*
*बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट*
Ravi Prakash
दौड़ी जाती जिंदगी,
दौड़ी जाती जिंदगी,
sushil sarna
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
Sarfaraz Ahmed Aasee
🙅प्राइवेसी के तक़ाज़े🙅
🙅प्राइवेसी के तक़ाज़े🙅
*प्रणय प्रभात*
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
shabina. Naaz
बाबू जी
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
!! दिल के कोने में !!
!! दिल के कोने में !!
Chunnu Lal Gupta
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
Loading...