Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 6, 2016 · 1 min read

नारी और धरती

नारी – धरा की कहानी अजीब है .
सब कुछ सहना ही उसका नसीब है .
नारी के गर्भ से ही ज़िन्दगी जनमती है .
धरती के गर्भ से ही ज़िन्दगी पलती है .
फिर भी ये दुनिया दोनों का रकीब है .
सब कुछ सहना ही उसका नसीब है .
कन्या की भूर्ण ह्त्या कर रहा समाज है .
धरती की हरियाली का करता विनाश है .
समझेगा कब ये मानव कितना बदनसीब है .
सब कुछ सहना ही उसका नसीब है .
नारी पुरुष की माता, पत्नी – राज़दार है .
नारी सिंगार है तो, नारी कटार है .
नारी सा ना बैरी कोई, ना नारी सा हबीब है .
सब कुछ सहना ही उसका नसीब है .
— सतीश मापतपुरी

368 Views
You may also like:
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
बरसात
मनोज कर्ण
अनमोल राजू
Anamika Singh
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष
Arjun Chauhan
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पापा
Anamika Singh
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
कर्म का मर्म
Pooja Singh
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
झूला सजा दो
Buddha Prakash
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अनामिका के विचार
Anamika Singh
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
माँ
आकाश महेशपुरी
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
Loading...