Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Sep 2023 · 1 min read

नाम में सिंह लगाने से कोई आदमी सिंह नहीं बन सकता बल्कि उसका

नाम में सिंह लगाने से कोई आदमी सिंह नहीं बन सकता बल्कि उसका सिर्फ नकल कर सकता है और आज के जमाने में नकल तो कोई भी कर सकता है ।

कवि – मनमोहन कृष्ण
तारीख – 11/09/2023
समय – 03 : 23 (रात्रि)

128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
औकात
औकात
साहित्य गौरव
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
प्रेम की बंसी बजे
प्रेम की बंसी बजे
DrLakshman Jha Parimal
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
इस क़दर
इस क़दर
Dr fauzia Naseem shad
सोशल मीडिया का दौर
सोशल मीडिया का दौर
Shekhar Chandra Mitra
23/83.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/83.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
*सपने जैसी जानिए, जीवन की हर बात (कुंडलिया)*
*सपने जैसी जानिए, जीवन की हर बात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
मन कहता है
मन कहता है
Seema gupta,Alwar
तनख्वाह मिले जितनी,
तनख्वाह मिले जितनी,
Satish Srijan
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दो दोस्तों की कहानि
दो दोस्तों की कहानि
Sidhartha Mishra
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / मुसाफ़िर बैठा
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
Khaimsingh Saini
दोहा पंचक. . . नारी
दोहा पंचक. . . नारी
sushil sarna
जब तात तेरा कहलाया था
जब तात तेरा कहलाया था
Akash Yadav
धर्म और सिध्दांत
धर्म और सिध्दांत
Santosh Shrivastava
💐प्रेम कौतुक-456💐
💐प्रेम कौतुक-456💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
श्याम सिंह बिष्ट
हार
हार
पूर्वार्थ
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुलदस्ता नहीं
गुलदस्ता नहीं
Mahendra Narayan
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...