Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2023 · 2 min read

नानी का गांव

कितनी पुरानी यादें है वो नानी के गांव की,
मिट्टी के चबूतरे की,वो पीपल के छांव की,
वो बारिश की मस्त पवन,
जब हमे छू कर जाती थी,
गीली मिट्टी की सौंधी सौंधी,
धीमी सी खुशबू लाती थी,
खेलते थे मिलकर हम सारे,
दिन भर कालू के आंगन में,
लग जाते थे धब्बे मिट्टी के,
हर रोज अपने दामन में,
फिर गरजे जोरों से काले,
बादल बिजली के साथ में,
झूम उठे सारे मस्ती से,
अधनंगे इस बरसात में।
अल्हड़ सी वो मस्ती सबकी,
अलग अलग थे सबके ढंग
बचपन की वो रिमझिम बारिश,
मानो जैसे इंद्रधनुष के रंग,
अक्सर बहती थी गलियों में,उस कागज़ की नांव की।
कितनी पुरानी यादें है वो नानी के गांव की,
पैर नही पुरते थे पूरे,
नाना की फट फटिया में,
थक हार के बैठ जाते थे,
उषारी पे पड़ी खटिया पे,
बन जाता था मैं बस डराई वर,
खटिया बस बन जाती थी,
ढूंर ढूंर कर कर चलती थी,
और पौ पौ हॉर्न बजाती थी,
मामा की बैलगाड़ी पर टंगकर,
फिर वो सारे गांव में घूमना,
चिल्ला चिल्ला के जोरों से
वो बिन बाजे के झूमना,
बचपन की वो नादानियां मेरी,
तब बड़ी ही प्यारी लगती थी,
उटपटांग सी हरकते मुझको
तबकि समझदारी सी लगती थी।
बीतें हुए लम्हों के साथ जुड़े,मासूम से उस लगाओ की।
कितनी पुरानी यादें है वो नानी के गांव की
जिन्दगी का वो दौर भी
कितना सुहाना लगता था,
बेफिक्रे से सब घूमते थे,
और नादान जमाना था,
कल की कोई फिक्र न थी,
न खुद पे कोई जोर था,
जल्दी जल्दी जो गुजर गया,
वो वक्त नहीं कुछ और था,
कितनी सुनहरी यादें आज भी ,
उस सुहाने पल की है,
गुदगुदाती है जो हर रोज आके,
उस पुराने कल की है,
चाहते है सब फिर से जीना,
काश वो बचपन वापस आ जाए,
अपने संग यार दोस्त को गांव से,
लेकर लड़कपन वापस आ जाए,
याद आती है अब मुझे,जीवन के उस पड़ाव की।
कितनी पुरानी यादें है वो नानी के गांव की।
@साहित्य गौरव

Language: Hindi
2 Likes · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार~
विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
-- नसीहत --
-- नसीहत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
इमारत बड़ी थी वो
इमारत बड़ी थी वो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"मैं पूछता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
लाख बड़ा हो वजूद दुनियां की नजर में
लाख बड़ा हो वजूद दुनियां की नजर में
शेखर सिंह
होली
होली
नूरफातिमा खातून नूरी
नया से भी नया
नया से भी नया
Ramswaroop Dinkar
वाक़िफ नहीं है कोई
वाक़िफ नहीं है कोई
Dr fauzia Naseem shad
और तुम कहते हो मुझसे
और तुम कहते हो मुझसे
gurudeenverma198
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
टूटकर बिखरना हमें नहीं आता,
टूटकर बिखरना हमें नहीं आता,
Sunil Maheshwari
जब सांझ ढले तुम आती हो
जब सांझ ढले तुम आती हो
Dilip Kumar
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
आईना
आईना
Sûrëkhâ
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
jayanth kaweeshwar
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
नौकरी
नौकरी
Aman Sinha
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
Manju sagar
असली अभागा कौन ???
असली अभागा कौन ???
VINOD CHAUHAN
बारिश और उनकी यादें...
बारिश और उनकी यादें...
Falendra Sahu
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
Manisha Manjari
3289.*पूर्णिका*
3289.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
छोटी कहानी -
छोटी कहानी - "पानी और आसमान"
Dr Tabassum Jahan
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...