Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

नव संवत्सर

विक्रम संवत २०८० की पावन बेला,
नववर्ष के आगमन की बधाई हो बधाई।।
नूतन का अभिनंदन करें सब,
आशा नई संचारित कर,पुरातन को विदाई।।
चैत्र मास का स्वागत करती,
पेड़ों पर नव अंकुरण से प्रकृति भी मुसकाई।।
रामलला के स्वागत में हर्षित जन,
बांधे बंदनवार, घर घर रंगोली खूब सजाई।
खुशियां और प्रीत बढ़े कुटुंब की
नई सुबह,सभी के लिए सुख समृद्धि लाई।।
घर घर होगा पूजन आराधन,
देने आशीष, सिंहवाहिनी मां शक्ति है आई।।
संवत की हर बेला रहे खुशमय,
माखन मिश्री सा वर्ष, मधुमय हो सुखदाई।।
बांटो खुशियां,खाओ खूब मिठाई,
नव संवत्सर के आगमन की बधाई हो बधाई।।
__ मनु वाशिष्ठ

Language: Hindi
230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
रास्तों के पत्थर
रास्तों के पत्थर
Lovi Mishra
शोर से मौन को
शोर से मौन को
Dr fauzia Naseem shad
😢
😢
*प्रणय प्रभात*
नव्य द्वीप
नव्य द्वीप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
किताब का आखिरी पन्ना
किताब का आखिरी पन्ना
Dr. Kishan tandon kranti
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
बेटियाँ
बेटियाँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"चालाक आदमी की दास्तान"
Pushpraj Anant
मन सोचता है...
मन सोचता है...
Harminder Kaur
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*मैं और मेरी चाय*
*मैं और मेरी चाय*
sudhir kumar
गम की मुहर
गम की मुहर
हरवंश हृदय
मरने के बाद करेंगे आराम
मरने के बाद करेंगे आराम
Keshav kishor Kumar
आम के छांव
आम के छांव
Santosh kumar Miri
अपने आंसुओं से इन रास्ते को सींचा था,
अपने आंसुओं से इन रास्ते को सींचा था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गूॅंज
गूॅंज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
manjula chauhan
दिल टूटा तो हो गया, दिल ही दिल से दूर ।
दिल टूटा तो हो गया, दिल ही दिल से दूर ।
sushil sarna
अगर कुछ करना है,तो कर डालो ,वरना शुरू भी मत करना!
अगर कुछ करना है,तो कर डालो ,वरना शुरू भी मत करना!
पूर्वार्थ
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरी याद ......
तेरी याद ......
sushil yadav
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
Shweta Soni
3569.💐 *पूर्णिका* 💐
3569.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
दुनिया का सबसे बड़ा पुण्य का काम किसी के चेहरे पर मुस्कान ला
दुनिया का सबसे बड़ा पुण्य का काम किसी के चेहरे पर मुस्कान ला
Rj Anand Prajapati
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
*शीर्षक - प्रेम ..एक सोच*
*शीर्षक - प्रेम ..एक सोच*
Neeraj Agarwal
"लेखक होने के लिए हरामी होना जरूरी शर्त है।"
Dr MusafiR BaithA
Loading...