Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

नव वर्ष का आगाज़

नववर्ष 2024 का आगाज़ हो रहा है,
दिल और घर दोनों में खुशी का माहौल हो रहा है।
पुरानी यादों को छोड़ दिल नए सपने संजो रहा है।

नववर्ष हमें नया उत्साह, नई उमंग,चुनौतियों का परिचय देता है,
जो कर जाए सामना इनका उसी का जीवन सफल होता है।

नए साल पर यही हमने ठानना है,
पूरी मेहनत कर अपने लक्ष्य को पाना है।
हर मुश्किल का हिम्मत से करना सामना है,
ऐसे ही ज़िंदगी मेंं आगे बढ़ना है।
खुशियों को मनाकर अपने दुखों को सांझा करना है।

नववर्ष पर “चहक” करती है यह कामना,
हर किसी को मिले प्यार और खुशी,
कभी किसी दुख से किसी का न हो सामना,
ईर्ष्या, द्वेष की किसी के मन न हो भावना,
करती है वंदना आपके मंगलमयी जीवन की कामना।

वंदना ठाकुर “चहक”

108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बच्चो की कविता -गधा बड़ा भोला
बच्चो की कविता -गधा बड़ा भोला
कुमार
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
Ravi Prakash
अपवित्र मानसिकता से परे,
अपवित्र मानसिकता से परे,
शेखर सिंह
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आज तू नहीं मेरे साथ
आज तू नहीं मेरे साथ
हिमांशु Kulshrestha
यह समय / MUSAFIR BAITHA
यह समय / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
परिवार
परिवार
डॉ० रोहित कौशिक
*बीजेपी समर्थक सामांतर ब्रह्मांड में*🪐✨
*बीजेपी समर्थक सामांतर ब्रह्मांड में*🪐✨
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
एक झलक
एक झलक
Dr. Upasana Pandey
" जीवन है गतिमान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
भगवान भले ही मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, और चर्च में न मिलें
भगवान भले ही मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, और चर्च में न मिलें
Sonam Puneet Dubey
.
.
Shwet Kumar Sinha
दो अनजाने मिलते हैं, संग-संग मिलकर चलते हैं
दो अनजाने मिलते हैं, संग-संग मिलकर चलते हैं
Rituraj shivem verma
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
Rakesh Bahanwal
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
जिन स्वप्नों में जीना चाही
जिन स्वप्नों में जीना चाही
Indu Singh
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"मजदूर"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
अनिल कुमार
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
Shweta Soni
फांसी का फंदा भी कम ना था,
फांसी का फंदा भी कम ना था,
Rahul Singh
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
परीक्षा
परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
*20वे पुण्य-स्मृति दिवस पर पूज्य पिता जी के श्रीचरणों में श्
*20वे पुण्य-स्मृति दिवस पर पूज्य पिता जी के श्रीचरणों में श्
*प्रणय प्रभात*
दासी
दासी
Bodhisatva kastooriya
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
मौसम
मौसम
Monika Verma
Loading...