Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2018 · 1 min read

नरवाई न जलाइए

कुण्डलिया (नरवाई न जलाइए)
——–
नरवाई न जलाइए, माने कृषक सुझाव।
खेतों की उर्वरा का, करें न नष्ट प्रभाव।।
करें न नष्ट प्रभाव, जले न शक्ति उर्वरा।
जलें न कोई जीव, रहे भी खेत भुरभुरा।।
कहि ‘कौशल’ समझाय, न हो दुर्घटना भाई।
मिट्टी में दबवाय, घास पत्ता नरवाई।।
——–
कौशल

1 Like · 1 Comment · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
कृष्णकांत गुर्जर
रसीले आम
रसीले आम
नूरफातिमा खातून नूरी
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
gurudeenverma198
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
आस भरी आँखें , रोज की तरह ही
आस भरी आँखें , रोज की तरह ही
Atul "Krishn"
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
Ashish shukla
खून के आंसू रोये
खून के आंसू रोये
Surinder blackpen
"तलबगार"
Dr. Kishan tandon kranti
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इश्क तो बेकिमती और बेरोजगार रहेगा,इस दिल के बाजार में, यूं ह
इश्क तो बेकिमती और बेरोजगार रहेगा,इस दिल के बाजार में, यूं ह
पूर्वार्थ
2730.*पूर्णिका*
2730.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक कविता उनके लिए
एक कविता उनके लिए
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बड़ा ही सुकूँ देगा तुम्हें
बड़ा ही सुकूँ देगा तुम्हें
ruby kumari
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
Swami Ganganiya
संग दीप के .......
संग दीप के .......
sushil sarna
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Kumud Srivastava
मुद्दा
मुद्दा
Paras Mishra
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
एक कुंडलियां छंद-
एक कुंडलियां छंद-
Vijay kumar Pandey
निभाना आपको है
निभाना आपको है
surenderpal vaidya
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
सोनू की चतुराई
सोनू की चतुराई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
“ आहाँ नीक, जग नीक”
“ आहाँ नीक, जग नीक”
DrLakshman Jha Parimal
*रामपुर रियासत को कायम रखने का अंतिम प्रयास और रामभरोसे लाल सर्राफ का ऐतिहासिक विरोध*
*रामपुर रियासत को कायम रखने का अंतिम प्रयास और रामभरोसे लाल सर्राफ का ऐतिहासिक विरोध*
Ravi Prakash
ग़ज़ब है साहब!
ग़ज़ब है साहब!
*प्रणय प्रभात*
52.....रज्ज़ मुसम्मन मतवी मख़बोन
52.....रज्ज़ मुसम्मन मतवी मख़बोन
sushil yadav
Loading...