Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

नये अमीर हो तुम

दुआ लबों पे तो आंखों में बन्दगी रखना
नये अमीर हो तुम ख़ुद को आदमी रखना

बुलन्दियों पे पहुंचकर बदल न जाना तुम
बुलन्दियों पे पहुंचना तो सादगी रखना

उतर न जाए कोई रंज दिल में गहरे तक
हरेक रंज का अहसास काग़ज़ी रखना

कभी-कभी तेरे अपने भी रंग बदलेंगे
ज़रा सी बात पे सबसे न दुश्मनी रखना

हवा बुझाएगी जलते हुए चराग़ों को
तेरा है काम अंधेरों में रोशनी रखना

— शिवकुमार बिलगरामी

Language: Hindi
2 Likes · 64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या  रिश्ते को इतन
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या रिश्ते को इतन
पूर्वार्थ
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
शेखर सिंह
बारिश
बारिश
Punam Pande
-- आधे की हकदार पत्नी --
-- आधे की हकदार पत्नी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
Harminder Kaur
रिश्ते
रिश्ते
Mangilal 713
कभी कभी खामोशी भी बहुत सवालों का जवाब होती हे !
कभी कभी खामोशी भी बहुत सवालों का जवाब होती हे !
Ranjeet kumar patre
बचपन के दिन
बचपन के दिन
Surinder blackpen
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सब तेरा है
सब तेरा है
Swami Ganganiya
जवानी
जवानी
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
अपनी समझ और सूझबूझ से,
अपनी समझ और सूझबूझ से,
आचार्य वृन्दान्त
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
shabina. Naaz
माँ आओ मेरे द्वार
माँ आओ मेरे द्वार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2794. *पूर्णिका*
2794. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किताब
किताब
Sûrëkhâ
आता सबको याद है, अपना सुखद अतीत।
आता सबको याद है, अपना सुखद अतीत।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*जाता देखा शीत तो, फागुन हुआ निहाल (कुंडलिया)*
*जाता देखा शीत तो, फागुन हुआ निहाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
Dr MusafiR BaithA
तन पर हल्की  सी धुल लग जाए,
तन पर हल्की सी धुल लग जाए,
Shutisha Rajput
माँ तेरा ना होना
माँ तेरा ना होना
shivam kumar mishra
वो क्या देंगे साथ है,
वो क्या देंगे साथ है,
sushil sarna
बारिश और उनकी यादें...
बारिश और उनकी यादें...
Falendra Sahu
Loading...