Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

नया साल

नया साल
नये साल तुम इतना क्यों इतरा रहे हो
क्या खुशी है उसे क्यों छुपा रहे हो
गोवा की बुकिंग करा रहे हो
आंखों पर गोगल चढ़ा रहै हो
दिसंबर के जाने का ज़श्न मना रहे हो
तेरे स्वागत में पलकें बिछाए खड़े हैं
हमारे लिए खुशियों की सौगात लाना
इस वर्ष थोड़ा सा परिवर्तन लाना
बुजुर्ग को सम्मान दिलाना
अविवाहितों को बीवी दिलाना
विवाहितों का प्यार बढ़ाना
चिंटू मिंटू को परीक्षा में सफल बनना
पंडितजी को जजमानी दिलाना
बच्चों के पापा को योग की मोटीवेशन देना
मोटो को पतला और पतलों को मोटा बनाना
सबकी सेहत का ख्याल रखना
नव वर्ष आपका स्वागत है

69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"दहलीज"
Ekta chitrangini
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक बालक की अभिलाषा
एक बालक की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
Ranjeet kumar patre
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
महाकाल का आंगन
महाकाल का आंगन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सफर
सफर
Arti Bhadauria
At the end of the day, you have two choices in love – one is
At the end of the day, you have two choices in love – one is
पूर्वार्थ
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
शेखर सिंह
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
सत्य कुमार प्रेमी
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कीलों की क्या औकात ?
कीलों की क्या औकात ?
Anand Sharma
शिक्षा दान
शिक्षा दान
Paras Nath Jha
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
दिल को तेरी
दिल को तेरी
Dr fauzia Naseem shad
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
Neelam Sharma
अपनाना है तो इन्हे अपना
अपनाना है तो इन्हे अपना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरा तुझसे मिलना, मिलकर इतना यूं करीब आ जाना।
मेरा तुझसे मिलना, मिलकर इतना यूं करीब आ जाना।
AVINASH (Avi...) MEHRA
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
DrLakshman Jha Parimal
"छलनी"
Dr. Kishan tandon kranti
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Dad's Tales of Yore
Dad's Tales of Yore
Natasha Stephen
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
एक सच और सोच
एक सच और सोच
Neeraj Agarwal
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
Kavita Chouhan
Loading...