Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Dec 2023 · 1 min read

नया साल

खट्टी मीठी यादें देकर हमें पुराना साल गया।
सुख दिया कभी हमें तो गमों से भी साल गया।।

बीते दिन महीना बदले और कभी बरसात हुई।
आया था उमंगे लेकर वैसी सुखद बिदाई हुई।।
वक्त कभी रुकता नहीं वक्त है दरिया जैसा।
पंख लगाकर दूर कहीं फिर से ये भी साल गया।।,,,

गुजरा हुआ वर्ष ये फिर लौट कहां से आएगा।
दीवारों पर नया कैलेंडर फिर फिर से टंग जायेगा।।
नया पुराना कुछ ना होता वक्त बदलता केवल।
काम वही करना है यही बता यह साल गया।,,,,

चला वक्त से ताल मिला वही सफ़ल हो पाता है।
समय चक्र रुकता नहीं साल बदलता जाता है।।
लेकर नया संकल्प नए वर्ष में चलते जाना।
याद हमें रखना दिल में कहकर वे भी साल गया,,,

उमेश मेहरा (गाडरवारा एम पी)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 488 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाहती हूँ मैं
चाहती हूँ मैं
Shweta Soni
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
"सृजन"
Dr. Kishan tandon kranti
मन मेरा मेरे पास नहीं
मन मेरा मेरे पास नहीं
Pratibha Pandey
बिना बकरे वाली ईद आप सबको मुबारक़ हो।
बिना बकरे वाली ईद आप सबको मुबारक़ हो।
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
मेरे राम
मेरे राम
Ajay Mishra
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
Neeraj Agarwal
चांद से सवाल
चांद से सवाल
Nanki Patre
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
रिवायत
रिवायत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
Naushaba Suriya
तू शौक से कर सितम ,
तू शौक से कर सितम ,
शेखर सिंह
" नेतृत्व के लिए उम्र बड़ी नहीं, बल्कि सोच बड़ी होनी चाहिए"
नेताम आर सी
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
manjula chauhan
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
विश्व कप लाना फिर एक बार, अग्रिम तुम्हें बधाई है
विश्व कप लाना फिर एक बार, अग्रिम तुम्हें बधाई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
क्या विरासत में हिस्सा मिलता है
क्या विरासत में हिस्सा मिलता है
Dr fauzia Naseem shad
मित्रता के मूल्यों को ना पहचान सके
मित्रता के मूल्यों को ना पहचान सके
DrLakshman Jha Parimal
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
Dr Archana Gupta
13. पुष्पों की क्यारी
13. पुष्पों की क्यारी
Rajeev Dutta
2693.*पूर्णिका*
2693.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहे - झटपट
दोहे - झटपट
Mahender Singh
* अवधपुरी की ओर *
* अवधपुरी की ओर *
surenderpal vaidya
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
Loading...