Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

नया विज्ञापन

टमाटर का नाम
वह बैंगन है
अगर बदला गया
क्या बैंगन बनाया जा सकता है?

बैंगन का नाम
सहजन सहजन
यदि बदला गया…
क्या यह सहजन होगा?

टमाटर तो टमाटर हैं
बैंगन तो बैंगन है

जैसा हो सकता है वैसा रहने दें…

भारत का नाम
इसे बदलकर भारत कर दिया गया है
क्या हो जाएगा?

कुछ नहीं होता
भारत सदैव
यह भारत होगा

हाँ…कीमत और
रिश्वतखोरी कम नहीं होती
जीएसटी नहीं हटेगा…
मौजूदा जनसंख्या
कम नहीं होगा…
मुद्रा खरीदकर
मतदान सभा
यह दूर नहीं जाएगा…

फिर…वे नाम क्यों बदलने आ रहे हैं?
हर चीज़ एक किंवदंती कहती है
नया विज्ञापन है…
इसके अलावा और क्या?

+ ओत्तेरी सेल्वा कुमार

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बारिश में नहा कर
बारिश में नहा कर
A🇨🇭maanush
"पकौड़ियों की फ़रमाइश" ---(हास्य रचना)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Neeraj Agarwal
Hajipur
Hajipur
Hajipur
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
ruby kumari
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ Rãthí
जख्म भी रूठ गया है अबतो
जख्म भी रूठ गया है अबतो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लट्टू हैं अंग्रेज पर, भाती गोरी मेम (कुंडलिया)
लट्टू हैं अंग्रेज पर, भाती गोरी मेम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
Er.Navaneet R Shandily
कैसी पूजा फिर कैसी इबादत आपकी
कैसी पूजा फिर कैसी इबादत आपकी
Dr fauzia Naseem shad
उम्र का लिहाज
उम्र का लिहाज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
ज़िंदगी इतनी मुश्किल भी नहीं
ज़िंदगी इतनी मुश्किल भी नहीं
Dheerja Sharma
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
अमृत मयी गंगा जलधारा
अमृत मयी गंगा जलधारा
Ritu Asooja
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
अपराध बालिग़
अपराध बालिग़
*Author प्रणय प्रभात*
When you become conscious of the nature of God in you, your
When you become conscious of the nature of God in you, your
पूर्वार्थ
दिल की भाषा
दिल की भाषा
Ram Krishan Rastogi
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
आर.एस. 'प्रीतम'
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
"ऐसा वक्त आएगा"
Dr. Kishan tandon kranti
पैसा
पैसा
Kanchan Khanna
यादों में
यादों में
Shweta Soni
अध्यात्म का शंखनाद
अध्यात्म का शंखनाद
Dr.Pratibha Prakash
Loading...