Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2023 · 1 min read

नयनों मे प्रेम

नयनों में यूँ प्रेम सजा के
मैं द्वार तुम्हारे आई थी
सपने नये बनने लगे थे
नभ में तारे दिखने लगे थे

हर लिप्सा को मानने लगी थी
हमसफ़र जानने लगी थी
चल पड़ी थी तब संग तुम्हारे
छोड़ के अपने घर द्वारे

नाता तुमसे यूँ जोड़ लिया
साथ अपनो का छोड़ दिया
संबंध सारे मैं तोड़ आई
मेरे अपने पीछे छोड़ आई

धर्म,जात, की सारी कहानी
सहसा ही तुमने सुनाई
मेरा न मेरे भीतर रहा
अस्तित्व ही तुमने बदल डाला

खोकर भी सबकुछ मेरा अपना
साथ तुम्हारे चलते रहना
समय अब कदाचित बदल गया
जीवन तो केवल ठहर गया

वापस तो न लौट पाऊँगी
संग तुम्हारे रम जाऊँगी
पथ सारे भूल आई थी
हाय कैसी प्रीत लगाई थी

भावनाओं का मोल न था
स्नेह का कोई तोल न था
कैसा अजब ये मेल हुआ
प्रेम का वीभत्स खेल हुआ

इक क्षण भी मेरे न हो सके
कभी हॄदय को न छू सके
मानव तो कभी न माना
हाड़ माँस का पुतला जाना

प्रेमसंसार तुमने दिखलाया
नयनों में विश्वास जगाया
हाथों में हाथ थाम लिया
जीवन तुम्हारे नाम किया

जगमग साँसों की लौ बुझा दी
डोर प्रेम की बरबस तोड़ दी
विश्वास,प्रेम का सिला दिया
यूँ गहन नींद में सुला दिया।।

बात बस इक तुम बतलाना
वादे से कहीं मुकर न जाना
पहचान मेरी यूँ मिटा दी
विश्वास,प्रेम की मुझे सजा दी

✍”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

311 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर हक़ीक़त को
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
पूर्वार्थ
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-264💐
💐प्रेम कौतुक-264💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ना प्रेम मिल सका ना दोस्ती मुकम्मल हुई...
ना प्रेम मिल सका ना दोस्ती मुकम्मल हुई...
Keshav kishor Kumar
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कोई भोली समझता है
कोई भोली समझता है
VINOD CHAUHAN
किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
Rj Anand Prajapati
__________सुविचार_____________
__________सुविचार_____________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
!!!! सबसे न्यारा पनियारा !!!!
!!!! सबसे न्यारा पनियारा !!!!
जगदीश लववंशी
*वेद उपनिषद रामायण,गीता में काव्य समाया है (हिंदी गजल/ गीतिक
*वेद उपनिषद रामायण,गीता में काव्य समाया है (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
Seema Verma
बितियाँ बात सुण लेना
बितियाँ बात सुण लेना
Anil chobisa
3247.*पूर्णिका*
3247.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुत्र एवं जननी
पुत्र एवं जननी
रिपुदमन झा "पिनाकी"
ख्वाहिशों के समंदर में।
ख्वाहिशों के समंदर में।
Taj Mohammad
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
दुःख,दिक्कतें औ दर्द  है अपनी कहानी में,
दुःख,दिक्कतें औ दर्द है अपनी कहानी में,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
गीत
गीत
Mahendra Narayan
Loading...