Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2016 · 1 min read

नयनों की चोट

मुक्तक
वो लगाकर घात बैठे आज करने नैन चोट।
तृप्ति के आधार मुख पर कर लिये हैं केश ओट।
चाहतें मन में जगा उसने किया हमको अधीर।
फिर प्रणय की आस में दिल पर रहे हैं साँप लोट।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
375 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
View all
You may also like:
जै जै जग जननी
जै जै जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कूड़े के ढेर में भी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
संबंधों के पुल के नीचे जब,
संबंधों के पुल के नीचे जब,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
मुरशिद
मुरशिद
Satish Srijan
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
किसान का दर्द
किसान का दर्द
तरुण सिंह पवार
हिंदी की दुर्दशा
हिंदी की दुर्दशा
Madhavi Srivastava
सावन
सावन
Ambika Garg *लाड़ो*
हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी है
हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी है
Jitendra Chhonkar
मजदूर की अन्तर्व्यथा
मजदूर की अन्तर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
#गद्य_छाप_पद्य
#गद्य_छाप_पद्य
*Author प्रणय प्रभात*
"आग्रह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी में रंग भरना आ गया
जिंदगी में रंग भरना आ गया
Surinder blackpen
श्राद्ध ही रिश्तें, सिच रहा
श्राद्ध ही रिश्तें, सिच रहा
Anil chobisa
चम-चम चमके चाँदनी
चम-चम चमके चाँदनी
Vedha Singh
*मेरे पापा*
*मेरे पापा*
Shashi kala vyas
जो भी कहा है उसने.......
जो भी कहा है उसने.......
कवि दीपक बवेजा
*सुना है इस तरह पैसा भी जादूगर कहाता है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*सुना है इस तरह पैसा भी जादूगर कहाता है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
आरजू
आरजू
Kanchan Khanna
सविधान दिवस
सविधान दिवस
Ranjeet kumar patre
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Neeraj Agarwal
🌷सारे सवालों का जवाब मिलता है 🌷
🌷सारे सवालों का जवाब मिलता है 🌷
Dr.Khedu Bharti
रिश्ते रिसते रिसते रिस गए।
रिश्ते रिसते रिसते रिस गए।
Vindhya Prakash Mishra
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
Seema Verma
हमारी निशानी मिटा कर तुम नई कहानी बुन लेना,
हमारी निशानी मिटा कर तुम नई कहानी बुन लेना,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...