Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

“नमक”

“नमक”
केवल खाने का स्वाद नहीं,
ज़ख़्मों की लज़्ज़त भी बढ़ाता है।
बशर्ते छिड़कने वाला
“हुनरमंद” हो।।

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ #NETA को नहीं तो #NOTA को सही। अपना #VOTE ज़रूर दें।।
■ #NETA को नहीं तो #NOTA को सही। अपना #VOTE ज़रूर दें।।
*Author प्रणय प्रभात*
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
नयन
नयन
डॉक्टर रागिनी
सहारा...
सहारा...
Naushaba Suriya
मुश्किल हालात हैं
मुश्किल हालात हैं
शेखर सिंह
*असुर या देवता है व्यक्ति, बतलाती सदा बोली (मुक्तक)*
*असुर या देवता है व्यक्ति, बतलाती सदा बोली (मुक्तक)*
Ravi Prakash
गोबरैला
गोबरैला
Satish Srijan
ख़ुशामद
ख़ुशामद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-479💐
💐प्रेम कौतुक-479💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसान
किसान
Bodhisatva kastooriya
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
पता नहीं कब लौटे कोई,
पता नहीं कब लौटे कोई,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सीप से मोती चाहिए तो
सीप से मोती चाहिए तो
Harminder Kaur
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हमदम का साथ💕🤝
हमदम का साथ💕🤝
डॉ० रोहित कौशिक
सवाल जिंदगी के
सवाल जिंदगी के
Dr. Rajeev Jain
23/57.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/57.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तहरीर
तहरीर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
Shashi kala vyas
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
Sonu sugandh
#चाकलेटडे
#चाकलेटडे
सत्य कुमार प्रेमी
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
आर.एस. 'प्रीतम'
मातृत्व
मातृत्व
साहित्य गौरव
शिक्षक
शिक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिसने अपनी माँ को पूजा
जिसने अपनी माँ को पूजा
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
Shankar N aanjna
Loading...