Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

नदी

आप नदी को चाहे जितना सिकोड़ सकते हैं,
मन भर निचोड़ सकते हैं,
क्योंकि नदी अपने प्रेमी के बल से बल पाती है,
उसी के बरसते स्नेह के बल पर बलखाती है,
जब तक उसका प्रेमी उससे रूठा है,
आप चाहे जितना अत्याचार कर लो,
वह सह लेगी,
अपने सूखते तन से उड़ती ,
रेत की वेदना को सहेज कर रख लेगी,
किंतु जिस दिन उसका प्रेमी,
आकाश में आएगा,
श्यामल मेघ बनकर छाएगा,
नदी के आंचल में मूसलाधार प्रेम,
छलकाएगा , झमझमाएगा,
उस दिन नदी ,
पुनः अपने आंचल के,
उस भाग को प्राप्त कर लेगी,
जिसे तुमने अपनी बपौती समझकर,
कब्जा कर लिया था ,
अपना आशियाना ,
अपना बाजार बसा लिया था,
नदी निर्दय नही है,
वह सहज है,
वह सरल है,
सत्य तो यह है मनुष्यों,
कि तुम्हारा ही अस्तित्व,
इस पूरी वसुधा के लिए गरल है।

#Kumar Kalhans

Language: Hindi
1 Like · 221 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
ruby kumari
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
समाजों से सियासत तक पहुंची
समाजों से सियासत तक पहुंची "नाता परम्परा।" आज इसके, कल उसके
*Author प्रणय प्रभात*
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
ऋचा पाठक पंत
वो लिखती है मुझ पर शेरों- शायरियाँ
वो लिखती है मुझ पर शेरों- शायरियाँ
Madhuyanka Raj
दर्द और जिंदगी
दर्द और जिंदगी
Rakesh Rastogi
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
प्रेम क्या है...
प्रेम क्या है...
हिमांशु Kulshrestha
शिवांश को जन्म दिवस की बधाई
शिवांश को जन्म दिवस की बधाई
विक्रम कुमार
चुप्पी!
चुप्पी!
कविता झा ‘गीत’
चंद अपनों की दुआओं का असर है ये ....
चंद अपनों की दुआओं का असर है ये ....
shabina. Naaz
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
The_dk_poetry
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
Shashi kala vyas
The Sound of Birds and Nothing Else
The Sound of Birds and Nothing Else
R. H. SRIDEVI
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
Neelam Sharma
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
"जिन्दगी में"
Dr. Kishan tandon kranti
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ का प्यार है अनमोल
माँ का प्यार है अनमोल
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
कवि दीपक बवेजा
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
कविता
कविता
sushil sarna
अपने किरदार में
अपने किरदार में
Dr fauzia Naseem shad
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
Dr Tabassum Jahan
"तरक्कियों की दौड़ में उसी का जोर चल गया,
शेखर सिंह
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...