Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2023 · 1 min read

*नत ( कुंडलिया )*

नत ( कुंडलिया )
——————————————————-
आती है जिनको कला ,नत होने का ज्ञान
उड़ते नभ में इस तरह ,जैसे उड़े विमान
जैसे उड़े विमान , स्वयं हल्के हो पाते
मिलता है सम्मान , मान जो देते जाते
कहते रवि कविराय ,ख्याति उनकी ही छाती
उन्हें पूजता लोक , नम्रता जिनको आती

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 9997615451

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मेरा हाथ
मेरा हाथ
Dr.Priya Soni Khare
दिल के फ़साने -ग़ज़ल
दिल के फ़साने -ग़ज़ल
Dr Mukesh 'Aseemit'
शातिर दुनिया
शातिर दुनिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
साथ चले कुछ दूर फिर,
साथ चले कुछ दूर फिर,
sushil sarna
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
प्यार और विश्वास
प्यार और विश्वास
Harminder Kaur
पिता
पिता
Mamta Rani
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
Sanjay ' शून्य'
वोट का लालच
वोट का लालच
Raju Gajbhiye
3631.💐 *पूर्णिका* 💐
3631.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
भूल कर
भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
🌹पत्नी🌹
🌹पत्नी🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
■ मुक़ाबला जारी...।।
■ मुक़ाबला जारी...।।
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बना रही थी संवेदनशील मुझे
बना रही थी संवेदनशील मुझे
Buddha Prakash
कभी कभी लगता है की मैं भी मेरे साथ नही हू।हमेशा दिल और दिमाग
कभी कभी लगता है की मैं भी मेरे साथ नही हू।हमेशा दिल और दिमाग
Ashwini sharma
* पिता पुत्र का अनोखा रिश्ता*
* पिता पुत्र का अनोखा रिश्ता*
पूर्वार्थ
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
*ताना कंटक सा लगता है*
*ताना कंटक सा लगता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पहला प्यार
पहला प्यार
Dipak Kumar "Girja"
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
Kishore Nigam
मत कुचलना इन पौधों को
मत कुचलना इन पौधों को
VINOD CHAUHAN
Loading...