Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2023 · 1 min read

नज़र

नज़र न लगे तेरी नज़र को,
नज़र जो मिली मेरी नज़र से।

नज़र का नज़र से इशारा हो गया।
ये दिल तभी से पराया हो गया ।

जरा भी ओझल हुए नज़र से,
धड़कन जुदा हुई बदन से ।

नज़र के रस्ते, बने हैं रिश्ते ।
नज़र के रस्ते, दिल में उतरते ।।

जिंदगी में मचा धमाल है।
यही तो नज़र का कमाल हैं ।।

डां. अखिलेश बघेल
दतिया (म.प्र.)

1 Like · 2 Comments · 182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
Pratibha Pandey
"पैसा"
Dr. Kishan tandon kranti
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
!.........!
!.........!
शेखर सिंह
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
3425⚘ *पूर्णिका* ⚘
3425⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है
मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है
gurudeenverma198
असोक विजयदसमी
असोक विजयदसमी
Mahender Singh
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
वो गर्म हवाओं में भी यूं बेकरार करते हैं ।
वो गर्म हवाओं में भी यूं बेकरार करते हैं ।
Phool gufran
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
- आम मंजरी
- आम मंजरी
Madhu Shah
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
Tarun Garg
सफ़ारी सूट
सफ़ारी सूट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
Satyaveer vaishnav
राजे महाराजाओ की जागीर बदल दी हमने।
राजे महाराजाओ की जागीर बदल दी हमने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यह दुनिया समझती है, मै बहुत गरीब हुँ।
यह दुनिया समझती है, मै बहुत गरीब हुँ।
Anil chobisa
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
हर कोई समझ ले,
हर कोई समझ ले,
Yogendra Chaturwedi
Believe,
Believe,
Dhriti Mishra
"Let us harness the power of unity, innovation, and compassi
Rahul Singh
खोया है हरेक इंसान
खोया है हरेक इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बच्चे का संदेश
बच्चे का संदेश
Anjali Choubey
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
देश के संविधान का भी
देश के संविधान का भी
Dr fauzia Naseem shad
एक साथ मिल बैठ जो ,
एक साथ मिल बैठ जो ,
sushil sarna
Loading...