Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2024 · 1 min read

नए साल की मुबारक

यह चैत्र माह की है बौछार
खुशिया नये साल की है औजार

नये साल की नयी बेला में ,नयी सुरत पर खुशी का इजहार है! झलक छोटी उम्र की चरण बेला में ,नमन कर सदा खुशी की बह बहार है।

चैत्र माह की बन यह बौछार है
खुशियों को लहराने का औजार है ।

खुशी जड़ के मौसम में खुशी वट से खुशियो की सदा भरमार है।. चेत्रमाह की माह बेला पर वट से आशीर्वाद भी बक बरकरार है।

चैत्र माह की बन चेतना
चेतना का शुभ कार्यों की औजार है ।

ब्रह्मा ने किया सुत्रत्पात मन से सृष्टि की रचना का
ब्राह्मण‌ ने किया सूत्रपात मन से नये पंचाग की रचना का
चैत्र माह की बन चेतना
चेतना जागी बन औजार
शुभ कार्यों का बन यह मोहरत
शुरु शिक्षा की तन यह शोहरत
विक्रम संवत की यही शुरुआत
दो आत्माअओ की प्रेम मुलाकात है।
चैत्र माह की बन चेतना
चेतना जागी बन औजार

बन यह चेतना चैत्र माह की शुभ मोहरत
नये सफर रख नयी राह को हैं नये सफर

Language: Hindi
17 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
surenderpal vaidya
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
मोबाइल महात्म्य (व्यंग्य कहानी)
मोबाइल महात्म्य (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
Shivkumar Bilagrami
जीत
जीत
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
चुनावी साल में
चुनावी साल में
*Author प्रणय प्रभात*
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
कवि रमेशराज
कवित्व प्रतिभा के आप क्यों ना धनी हों ,पर आप में यदि व्यावहा
कवित्व प्रतिभा के आप क्यों ना धनी हों ,पर आप में यदि व्यावहा
DrLakshman Jha Parimal
"परमात्मा"
Dr. Kishan tandon kranti
समय
समय
Dr.Priya Soni Khare
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दूरियां ये जन्मों की, क्षण में पलकें मिटातीं है।
दूरियां ये जन्मों की, क्षण में पलकें मिटातीं है।
Manisha Manjari
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
The_dk_poetry
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नौकरी (१)
नौकरी (१)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरा नसीब
मेरा नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
विजयादशमी
विजयादशमी
Mukesh Kumar Sonkar
रोना ना तुम।
रोना ना तुम।
Taj Mohammad
घर एक मंदिर🌷🙏
घर एक मंदिर🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
!! एक ख्याल !!
!! एक ख्याल !!
Swara Kumari arya
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
*अपनेपन से भर सको, जीवन के कुछ रंग (कुंडलिया)*
*अपनेपन से भर सको, जीवन के कुछ रंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
’शे’र’ : ब्रह्मणवाद पर / मुसाफ़िर बैठा
’शे’र’ : ब्रह्मणवाद पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...