Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

नए मौसम की चका चोंध में देश हमारा किधर गया

नए मौसम की चका चोंध में देश हमारा किधर गया
अब तो ऐसा समय आ गया जाने दो जो जिधर गया

चांद पर जाना हुआ मुनासिफ धरती पर आए नहीं
आधुनिकता की जद में मानव कितना पिछड गया

✍️कवि दीपक सरल☑️

60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
At the end of the day, you have two choices in love – one is
At the end of the day, you have two choices in love – one is
पूर्वार्थ
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
"टी शर्ट"
Dr Meenu Poonia
पंकज दर्पण अग्रवाल
पंकज दर्पण अग्रवाल
Ravi Prakash
नन्हे-मुन्ने हाथों में, कागज की नाव ही बचपन था ।
नन्हे-मुन्ने हाथों में, कागज की नाव ही बचपन था ।
Rituraj shivem verma
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
तेरा हासिल
तेरा हासिल
Dr fauzia Naseem shad
2722.*पूर्णिका*
2722.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"अजीब रवायतें"
Dr. Kishan tandon kranti
दुनिया कितनी निराली इस जग की
दुनिया कितनी निराली इस जग की
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कविता
कविता
Rambali Mishra
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Satya Prakash Sharma
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
Taj Mohammad
//  जनक छन्द  //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"" *मन तो मन है* ""
सुनीलानंद महंत
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
Swara Kumari arya
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
★गहने ★
★गहने ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
नसीहत
नसीहत
Slok maurya "umang"
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
Dr MusafiR BaithA
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
सत्य कुमार प्रेमी
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
अनिल कुमार
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...