Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 24, 2016 · 1 min read

नई नवेली नारि

नई नवेली नारि अकेले पावस में ससुराल बसे.
बारिश की बूंदे उसको- सौतन के ही मानिंद डसे.
मेघा के ही साथ रात में, सेज पे दो नयना बरसे.
सजन- अंग- संग मिलन को आतुर, गोरी का अंग -अंग तरसे.
डाढ़ लगे बारिश को विधिना, बिरह में घन जो गरज हंसे.
बारिश की बूंदे उसको- सौतन के ही मानिंद डसे.
बारिश से कुछ धुले ना धुले, आंसू से कजरा धुल जाए.
मेघा के छाने से तन में, पावस में पावक लग जाए.
मन की आग बुझा नहीं पाते, सावन के काले बादल.
ठोकर से क्या बजा कभी है, दुल्हन के झुमका -पायल?
आग लगे उनके दफ्तर को, ताकि वो घर लौट सके.
बारिश की बूंदे उसको- सौतन के ही मानिंद डसे.
——- सतीश मापतपुरी

2 Comments · 198 Views
You may also like:
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
बाबू जी
Anoop Sonsi
✍️मनस्ताप✍️
"अशांत" शेखर
✍️✍️मौत✍️✍️
"अशांत" शेखर
इंसाफ के ठेकेदारों! शर्म करो !
ओनिका सेतिया 'अनु '
मरने के बाद।
Taj Mohammad
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
जीवन चक्र
AMRESH KUMAR VERMA
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
अजीब कशमकश
Anjana Jain
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
पावन पवित्र धाम....
Dr. Alpa H. Amin
हर घर में।
Taj Mohammad
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
सूरज की पहली किरण
DESH RAJ
लत...
Sapna K S
होली
AMRESH KUMAR VERMA
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
मेरी नेकियां।
Taj Mohammad
मोन
श्याम सिंह बिष्ट
गुरु की महिमा***
Prabhavari Jha
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
माँ गंगा
Anamika Singh
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
Loading...