Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2022 · 1 min read

धूप में साया।

धूप में साया बन कर रहते है।
साथ रहते है पर बात ना करते है।।

गर पूंछो तो सदा टाल देते है।
यूं भी सनम इश्क में सजा देते है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 2 Comments · 243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
****मतदान करो****
****मतदान करो****
Kavita Chouhan
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
कवि रमेशराज
एकता में बल
एकता में बल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
काट  रहे  सब  पेड़   नहीं  यह, सोच  रहे  परिणाम भयावह।
काट रहे सब पेड़ नहीं यह, सोच रहे परिणाम भयावह।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चाँद से वार्तालाप
चाँद से वार्तालाप
Dr MusafiR BaithA
क्रोध
क्रोध
ओंकार मिश्र
बहारों कि बरखा
बहारों कि बरखा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सिंधु  (कुंडलिया)
सिंधु (कुंडलिया)
Ravi Prakash
2835. *पूर्णिका*
2835. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" चले आना "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
gurudeenverma198
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
साझ
साझ
Bodhisatva kastooriya
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
Parvat Singh Rajput
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
खुद से प्यार
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
■ मौजूदा हाल....
■ मौजूदा हाल....
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
सिला नहीं मिलता
सिला नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
।। अछूत ।।
।। अछूत ।।
साहित्य गौरव
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐 क्या-क्या असर हुआ उनकी ज़ुस्तजू का💐
💐 क्या-क्या असर हुआ उनकी ज़ुस्तजू का💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रचना प्रेमी, रचनाकार
रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...