Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2022 · 1 min read

धूप में साया।

धूप में साया बन कर रहते है।
साथ रहते है पर बात ना करते है।।

गर पूंछो तो सदा टाल देते है।
यूं भी सनम इश्क में सजा देते है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 2 Comments · 84 Views
You may also like:
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
बंदर भैया
Buddha Prakash
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आप से ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई ऐसे धार दे
Dr fauzia Naseem shad
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...